बेटियों के प्रति भेदभाव को दूर करने बनाई गई लाड़ली लक्ष्मी योजना : मुख्यमंत्री श्री चौहान

प्रदेश में महिला सशक्तिकरण के लिये निरंतर कार्य किसानों का कल्याण उच्च प्राथमिकता मंदसौर विधानसभा में भी पहुँचेगा चम्बल का पानी धुंधडका टप्पा बनेगा तहसील मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंदसौर में 1337 करोड़ के विकास कार्यों का लोकार्पण/भूमि-पूजन किया

मंदसौर जिले में विकास कार्यों का लोकार्पण/भूमि-पूजन

कार्य का नाम

लागत (करोड़ में)

खेताखेड़ा तालाब, लोकार्पण

13.99

सेदरा करनाली तालाब, लोकार्पण

20.17

गरोठ सूक्ष्म सिंचाई परियोजना, लोकार्पण

418.23

हरचंडी सालंड वियर, लोकार्पण

5.15

अटल बिहारी वाजपेयी शा. महा. पिपलिया मंडी, अतिरिक्त कक्ष, लोकार्पण

3.53

मल्हारगढ़ दाबयुक्त सिंचाई परियोजना का भूमिपूजन

876.62

कुल

1337.69

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि उन्होंने प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में बहनों के साथ परिवार और समाज के स्तर पर भेदभाव के कई उदाहरण देखे। इससे उद्वेलित होकर ही लाड़ली लक्ष्मी योजना बनाई गई। इसके बाद बेटियों और बहनों के लिए निरंतर अनेक योजनाएं बनाई गईं। इन योजनाओं से प्रदेश में महिला सशक्तिकरण का कार्य सफलता पूर्वक हुआ है। इस दिशा में मध्यप्रदेश में निरंतर कार्य हो रहे हैं।

विकास पर्व के दौरान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान पीपलियामंडी जिला मंदसौर में किसान सम्मेलन में शामिल हुए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 1337 करोड़ से अधिक के निर्माण कार्यों का लोकार्पण एवं भूमि पूजन किया। किसान सम्मेलन का शुभारंभ मुख्यमंत्री ने कन्या पूजन के साथ किया। मुख्यमंत्री ने 126 गाँवों से सभा में लाए गए 126 कलश की पूजा भी की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किसान-कल्याण सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। प्रदेश में कृषि को लाभ का धंधा बनाया जा रहा है। किसान सम्मान निधि की राशि को बढ़ाकर 12 हजार रूपये किया गया है। पुरानी सरकार ने किसानों को डिफाल्टर बना दिया था। हमारी सरकार ने उनके ब्याज की राशि भरकर उन्हें फिर से शून्य प्रतिशत ब्याज पर फसलों के लिये ऋण दिलाना प्रारंभ किया है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि लाड़ली बहना योजना में मैं बहनों को केवल पैसा नहीं दे रहा हूँ, बल्कि बहनों को सम्मान और मान दे रहा हूँ। यह राशि केवल 1 हजार नहीं रहेगी, बल्कि बढ़ा कर इसे 1250 फिर 1500 फिर 1750 फिर 2000 फिर 2250 फिर 2500 फिर 2750 एवं फिर 3000 तक किया जाएगा। अब इसमें 21 से 23 वर्ष की बहनों एवं ट्रैक्टर वाले परिवारों की बहनों को भी शामिल कर लिया गया है। आगामी 10 अगस्त को फिर से सभी बहनों के खाते में 1 हजार की राशि भेजी जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटी को बोझ नहीं बनने देंगे। लाड़ली लक्ष्मी योजना में बेटी के जन्म लेते ही 30 हजार का बचत-पत्र दिया जाता है। लाड़ली बहना योजना से बहनें परिवार के सदस्यों की जरूरत के लिए राशि खर्च करने में सक्षम बन रही हैं। बहनों का सम्मान भी बढ़ रहा है। बहनों को स्थानीय निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। सम्पत्ति खरीदने में रजिस्ट्री में एक प्रतिशत स्टाम्प शुल्क ही बहनों से लिया जाता है। पुलिस बल में 30 प्रतिशत स्थानों पर महिलाएं आएं, इसका प्रावधान भी राज्य शासन ने किया है। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना के माध्यम से बहनों को राशि के साथ ही सम्मान भी प्रदान किया जा रहा है। मैं बहनों का भाई हूँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में स्वयं सहायता समूह के माध्यम से आर्थिक उन्नयन के कार्य हो रहे हैं। सिंचाई, पेयजल की व्यवस्थाएँ बेहतर की गई हैं। हर घर नल से जल प्रदाय किया जा रहा है। महिलाओं पर बुरी नजर रखने वालों को फांसी ओर उनके घरों पर बुल्डोजर चलाने का कार्य किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोई भी व्यक्ति आवासहीन नहीं रहेगा। पूर्व सरकार ने मेरे बेटे- बेटियों को लैपटाप की राशि नहीं दी। संबल योजना बंद कर दी। प्रसव सहायता भी नहीं दी गई। अनेक कार्यक्रम बंद कर दिए गए। तीर्थ दर्शन योजना भी उनमें से एक है। अब सरकार ने योजना पुन: प्रारंभ कर हवाई जहाज से भी तीर्थ यात्रा शुरु करवाई है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मेधावी विद्यार्थियों को स्कूटी और विद्यार्थियों को दूसरे गांव पढ़ने जाने पर सायकिल दिलवाने की व्यवस्था की गई है। उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा शुल्क राज्य सरकार भरेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अनेक विकास कार्यों से परिदृश्य बदल रहा है। मध्यप्रदेश बदल रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में देश में विकास हो रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री के रूप में नहीं, परिवार के सदस्य के रूप में परिवार चला रहा हूँ। मैं आपका भैया और मामा हूँ। तेंदूपत्ता संग्राहकों को लाभान्वित किया जा रहा है। सभी वर्गों का कल्याण सुनिश्चित किया गया है। आमजन विकास में सहभागिता का संकल्प लें।

धुंधडका टप्पा को तहसील बनाया जाएगा

मुख्यमंत्री ने घोषणा करते हुए कहा कि मंदसौर जिले की धुंधडका टप्पा को तहसील का दर्जा प्रदान किया जाएगा। मल्हारगढ़ सिंचाई परियोजना के अंतर्गत छूटे हुए 31 गाँवों को शामिल किया जाएगा। मंदसौर विधानसभा क्षेत्र में भी चंबल का पानी लाया जाएगा।

जिले के प्रभारी मंत्री तथा औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री श्री राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, वित्त, वाणिज्यिक कर, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री जगदीश देवड़ा, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा तथा पर्यावरण मंत्री श्री हरदीप सिंह डंग, जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती दुर्गा विजय पाटीदार, विधायक श्री यशपाल सिंह सिसोदिया, श्री देवी लाल धाकड़, श्री दिलीप सिंह परिहार, श्री माधव मारू, श्री नानालाल अटोलिया, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती गुर्जर, श्री कैलाश चावला, श्री राधेश्याम पाटीदार, श्री बंशीलाल गुर्जर, श्री चंद्र सिंह सिसोदिया सहित अन्य सभी जन-प्रतिनिधि, बड़ी संख्या में किसान, लाड़ली बहनें सहित जन-समुदाय उपस्थित था।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

सनातन संस्कृति की रक्षा में संतों का अद्वितीय योगदान है - मुख्यमंत्री डॉ. यादव