बेटे-बेटियों की शिक्षा और कोचिंग में सहयोगी बने किरार समाज : मुख्यमंत्री श्री चौहान

बीएचएल दशहरा मैदान में किरार समाज का राष्ट्रीय सम्मेलन युवक-युवती परिचय सम्मेलन और प्रतिभा सम्मान समारोह में हुई व्यापक भागीदारी

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रत्येक समाज को शिक्षा, उद्यमशीलता, पर्यावरण-संरक्षण, नशा-मुक्ति अभियान और बेटियों को सशक्त बनाने के कार्यों में अपना योगदान देना है। किरार-धाकड़ समाज भी इस दिशा में अपनी भूमिका को सक्रिय बनाये। समाज स्तर पर विद्यार्थियों को शिक्षा और कोचिंग के लिए बेहतर सुविधाएँ देकर उनका मनोबल बढ़ाये। समाज-बंधु यह संकल्प लें कि बेटियों का अपमान नहीं होने देंगे। उनके सशक्तिकरण के लिए पूरी ताकत से काम करेंगे। उन्होंने कहा कि आज समाज स्तर पर निर्धन विद्यार्थियों के लिए बड़े शिक्षा केंद्रों पर आवश्यक व्यवस्थाएँ कर उनके परिश्रम और उनकी प्रतिभा को सार्थक करना है। भोपाल में किरार भवन और छात्रावास निर्माण का कार्य जारी है। समाज के ऐसे बेटे-बेटियाँ जो कमजोर वर्ग के हैं और प्रतिभाशाली हैं, उनके लिये पढ़ने और रहने की व्यवस्था की जाएगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान आज भोपाल के बीएचईएल दशहरा मैदान में अखिल भारतीय किरार, क्षत्रिय महासभा और अखिल भारतीय धाकड़ महासभा के महासंगम-2023 को संबोधित कर रहे थे। अखिल भारतीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन भी हुआ, जिसमें किरार, किराड़, धाकड़, नागर और मालव युवक-युवतियों ने हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज सम्मेलन में मध्यप्रदेश के अलावा राजस्थान, छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र और अन्य प्रांतों से किरार बंधु एकत्र हुए हैं। किरार समाज मुख्य रूप से खेती और उससे जुड़े कार्य करता रहा है। हल धारण करते हुएकिसान के रूप में भारत के अन्न के भण्डार भरने वाले इस समाज के पूज्य आराध्य देव श्री धरणीधर भगवान बलराम हैं। सामाजिक प्रगति के साथ अन्य क्षेत्रों में समाज का प्रतिनिधित्व बढ़ रहा है। कोई भी समाज आगे बढ़ता है तो देश भी आगे बढ़ता है। समाज की प्रगति से देश की प्रगति होती है। अपना हिन्दुस्तान दिनों-दिन आगे बढ़ेगा। अलग-अलग समाज मिलन कार्यक्रम करते हैं, जो उद्देश्यपूर्ण होते हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज समाज की प्रगति के लिए मिल कर कार्य करने की आवश्यकता है। कोरोना काल में सभी लोगों ने परस्पर सहयोग किया। जरूरतमंदों के उपचार के साथ ही निर्धन वर्ग के लिए अन्न (भोजन) की व्यवस्था की गई। मुख्यमंत्री ने बताया कि मुख्यमंत्री के नाते अस्पतालों में ऑक्सीजन, औषधियों की व्यवस्था और प्रभावित परिवारों के लिए आर्थिक सहयोग सुनिश्चित करने में दिन-रात एक किया। सामाजिक संस्थाओं का सहयोग भी मिला। समाज के सशक्तिकरण के लिए एक-एक नागरिक का सहयोग जरूरी है। नशा-मुक्त समाज की रचना, हरियाली बढ़ाने, पानी और बिजली की बचत, बेटियों और बहनों के सम्मान के लिए भी इस भाव से कार्य करना है कि सम्पूर्ण दुनिया एक परिवार है। इस भाव को हर व्यक्ति प्रणाम भी करता है। साथ ही राष्ट्र के लिए अधिक से अधिक योगदान देने का भाव भी और मजबूत होना चाहिए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ईश्वर ने मनुष्य को जितना भी जीवन दिया है उसे सार्थक बनाने के लिए लगातार प्रयास करना है। स्वामी विवेकानंद ने भी कहा था कि दुनिया का कोई कार्य असंभव नहीं है। आज मध्यप्रदेश को समृद्ध बनाने के लिए प्रत्येक क्षेत्र में आवश्यक कदम उठाए गए हैं। मध्यप्रदेश की धरती से दस्युओं को समाप्त किया गया। सिंचाई, बिजली, सड़क और पेयजल की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाया गया। कृषि क्षेत्र का विकास हुआ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लाड़ली बहना योजना से परिवारों तक प्रतिमाह पहुँचने वाली राशि को निर्धन परिवारों के लिए वरदान बताया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सम्मेलन में उपस्थित नागरिक बंधुओं का पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वागत न कराते हुए समाज के वरिष्ठजन का स्वयं स्वागत किया।

पर्यावरण-संरक्षण में भी अपना योगदान बढ़ाएँ : श्रीमती चौहान

किरार समाज की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती साधना सिंह चौहान ने कहा कि किरार समाज कृषि प्रधान समाज है। आज यहाँ समाज पदाधिकारियों का भव्य स्वागत देखने को मिला है। यह स्वागत भारतीय समाज का संस्कार हैं। आज युवक-युवती परिचय सम्मेलन और प्रतिभा सम्मान समारोह भी परिणाममूलक रहेगा। गत परिचय सम्मेलन में अनेक जोड़े विवाह-सूत्र में बंधे थे। युवा यह चाहते हैं कि संबंध ऐसे परिवार में हो जहाँ सभी की भावनाओं का ध्यान रखा जाता हो। परिवार की भूमिका महत्वपूर्ण है। श्रीमती साधना सिंह ने कहा कि हमारा समाज प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ रहा है। हर क्षेत्र में योगदान दे रहा है। खेल का क्षेत्र हो या शिक्षा का, समाज-सेवा हो या शासकीय सेवा, किरार समाज सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रहा है। समाज से डिप्टी कलेक्टर और आईपीएस भी बने हैं। आज यह जरूरी है कि किरार समाज पर्यावरण-संरक्षण में भी अपना योगदान बढ़ाये। उन्होंने विभिन्न खेलों में समाज के खिलाड़ियों द्वारा अनेक मेडल जीतने का उल्लेख करते हुए सफल युवाओं को बधाई और शुभकामनाएँ दी। श्रीमती सिंह ने बताया कि संभावना कोचिंग संस्था से अनेक विद्यार्थियों ने कोचिंग प्राप्त कर यूपीएससी, पीएससी और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त की है। उन्होंने जिन अभिभावकों ने बच्चों की पढ़ाई में कमी नहीं रखी, ऐसे सभी अभिभावकों को धन्यवाद। उन्होंने कहा कि मैं महाराष्ट्र की बेटी हूँ और मध्यप्रदेश की बहू बनी। किरार समाज ने मध्यप्रदेश सहित महाराष्ट्र और अन्य प्रांतों में कोरोना काल में नागरिकों की सराहनीय मदद की। श्रीमती सिंह ने कहा कि समाज के लोग रोज पौधा लगाएँ। अपनी जन्म वर्षगाँठ, विवाह की सालगिराह और पूर्वजों की स्मृति में पौधे लगाये जाये। साथ ही श्री धरणीधर भगवान बलराम की प्रतिमा घरों में लगाएँ।

प्रतिभाओं का सम्मान

किरार-धाकड़ महासंगम और अखिल भारतीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन में अनेक प्रतिभाओं का सम्मान किया गया है। वर्ष 2020 से 2023 में यूपीएससी में चयनित युवाओं और राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में प्रतिनिधित्व करने वाले समाज के विद्यार्थियों का सम्मान किया गया। इनमें यूपीएससी परीक्षा में वर्ष 2020 में चयनित डिप्टी कलेक्टर श्री विशाल धाकड़ धार, वर्ष 2021 में चयनित आईपीएस सुश्री उर्वशी सेंगर ग्वालियर, सिविल जज सुश्री सीमा धाकड़, विदिशा, सुश्री प्राची चौधरी, सिविल जज जबलपुर, श्री शिवम धाकड़ (आईपीएस) ट्रेनिंग- हैदराबाद, श्री कृष्णपाल धाकड़ (फर्स्ट क्लास आफिसर) डिप्टी मैनेजर (एनएचएआई), बलराम धाकड़(सहायक आयुक्त, एम.पी.जी.एस.टी) मंडीदीप, जिला रायसेन, श्री अनवि धाकड़(सिविल जज) मुरैना, जिला न्यायालय जबलपुर, श्री पंकज राजपूत, मधुबाला सोलंकी(जज के लिए चयनित), जियो साइंटिस्ट दुर्गेश चौरे और आदर्श चौहान असिस्टेंट कमांडेंट के साथ ही खेल के क्षेत्र में श्रीमती प्राची यादव, ग्वालियर और अन्य प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया। सुश्री प्राची यादव ने वर्ष 2022 में पोलैंड में भारत के लिए कांस्य पदक प्राप्त किया था। अन्य खिलाड़ियों में जितेन्द्र धाकड़ श्योपुर, श्री आशीष धाकड़, मुरैना, सुश्री संगीता राजपूत ग्वालियर, श्री रामकृष्ण बरकोरिया किरार, छिंदवाड़ा, सुमित महादुले, गोंदिया, महाराष्ट्र, तनुरी नागर सीहोर, श्री हर्ष नागर, राजगढ़ और बालमुकुंद ठाकुर सिवनी शामिल हैं। सफल विद्यार्थियों में से जो उपस्थित नहीं थे उनके परिजन ने सम्मान प्राप्त किया।

लोक निर्माण राज्य मंत्री श्री सुरेश धाकड़, पूर्व निगम अध्यक्ष श्री राम किशन चौहान, पूर्व मंत्री श्री राजकुमार पटेल, किरार महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री शिवाजी पटेल, श्री सुरजीत सिंह चौहान, सार्वजनिक उपक्रमों के पदाधिकारी, सामाजिक संगठनों के सदस्य और बड़ी संख्या में किरार समाज के नागरिक उपस्थित थे। प्रारंभ में श्री रामस्वरूप पटेल ने भी संबोधित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री प्रदीप चौहान द्वारा सम्पादित विशेष स्मारिका का विमोचन किया। प्रतिभा सम्मान समारोह का संचालन श्री ब्रजेन्द्र चौहान ने किया।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी