बहनों की जिंदगी बदलना मेरी जिंदगी का लक्ष्य : मुख्यमंत्री श्री चौहान

स्व-सहायता समूह के संकुल स्तरीय संगठनों की बहनों से संवाद

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बहनों की जिंदगी बदलना मेरी जिंदगी का लक्ष्य है। बहनों को आगे बढ़ाने और उन्हें सम्मान के साथ जीवन जीने के अवसर प्रदान करने में कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी। मध्यप्रदेश में महिला सशक्तिकरण के अद्भुत प्रयास हो रहे हैं। मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना इन्हीं प्रयासों में से एक है। प्रदेश में आजीविका मिशन की बहनों की आय कम से कम 10 हजार रूपए महीना करना है, जिससे वे लखपति क्लब में शामिल हो सकें। बहनों की गरीबी दूर कर उन्हें अमीरी की ओर ले जाना है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज निवास कार्यालय स्थित समत्व भवन के सभागार में स्व-सहायता समूह के संकुल स्तरीय संगठनों की अध्यक्ष बहनों से संवाद कर रहे थे।

आजीविका मिशन के माध्यम से बहनों की गरीबी होगी दूर

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आजीविका मिशन बहनों की गरीबी दूर करने की दिशा में सशक्त माध्यम बनकर कार्य कर रहा है। आजीविका मिशन से बहनों में जागृति पैदा हो रही है। आज बहनों में आत्मविश्वास और भरोसा बढ़ रहा है। बहनों की समाज में इज्जत बढ़ी है। जो बहनें आजीविका मिशन से नहीं जुड़ी हैं, उन्हें भी जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। बहनों को आत्मविश्वास और मेहनत से अपने जीवन को सुदृढ़ बनाना है। लाड़ली बहना सेना से जोड़कर बहनों को संगठित किया जा रहा है। यह सेना बहनों को शासन की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ दिलाने में मदद करेगी। साथ ही बहनों पर होने वाले अन्याय को रोकने में भी कारगर बनेगी। लाड़ली बहनें एक परिवार की तरह हैं।

बहनों की मिल रही हैं दुआएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री लाड़ली बहना योजना के संबंध में आजीविका मिशन की बहनों से संवाद किया। बहनों ने कहा कि - यह योजना हमारे लिए बहुत ही उपयोगी है और हमें मान-सम्मान से जीवन जीने का अवसर दे रही है। लाड़ली बहना योजना के लिए बहनों की ओर से आपको बहुत-बहुत दुआएँ मिल रही हैं।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी