हर नागरिक पर्यावरण-संरक्षण, बेटी बचाओ, गो-सेवा, पानी-बिजली की बचत और नशामुक्त समाज के लिए कार्य करे : मुख्यमंत्री श्री चौहान

प्रतिदिन पौध-रोपण का संकल्प अनुकरणीय - पंडित प्रदीप मिश्रा करोंद क्षेत्र में भक्तिसागर की गंगा, लाखों श्रद्धालुओं की उपस्थिति में पूर्ण हुई पाँच दिवसीय श्री शिव महापुराण कथा

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रत्येक नागरिक समाज हित में कुछ कार्य जरूर अपनाए। उन्होंने आहवान किया कि नागरिक अपने जन्म-दिन, विवाह वर्षगाँठ और परिवार के दिवंगत सदस्य की स्मृति में पौधा लगाने, गो-सेवा के लिए समय एवं अर्थ का दान देने, बेटियों के प्रोत्साहन, पानी एवं बिजली की बचत और नशा मुक्त समाज के लिए कार्य करे, जिससे हम अपने प्रदेश को अलग पहचान दें सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज करोंद क्षेत्र में प्रख्यात कथा वाचक पंडित प्रदीप मिश्रा की पाँच दिवसीय श्री शिव महापुराण कथा कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। श्री शिव महापुराण कथा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग और समाजसेवियों के सहयोग से स्व. श्री कैलाश सारंग और स्व. श्रीमती प्रसून सारंग की स्मृति में की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्व. श्री कैलाश सारंग और श्रीमती प्रसून सारंग के प्रति श्रद्धा-सुमन अर्पित किए। उन्होंने पंडित अनंतश्री विभूति आचार्य श्री महामंडलेश्वर पदनाभशरणदेवाचार्य जी महाराज को भी नमन किया।

पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पर्यावरण को बचाने के लिए प्रतिदिन पौधा लगाने का अभिनव कार्य किया है। उनका यह संकल्प अनुकरणीय है। मध्यप्रदेश में गो-रक्षा और मूक प्राणियों के उपचार के लिए एम्बुलेंस व्यवस्था की शुरूआत भी अनोखा कदम है। पंडित मिश्रा ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के श्री शिव महापुराण कथा आने पर हर्ष व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भगवान शिव की उपासना और भक्ति का मार्ग नागरिकों के दोष समाप्त करने का माध्यम भी है। सभी का यह प्रयास होना चाहिए कि हमारे जीवन में आनंद का प्रकाश हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पंडित मिश्रा के भक्ति गायन पर डमरू बजाकर आस्था और प्रसन्नता व्यक्त की।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम स्थल पहुँचकर सर्वप्रथम प्रख्यात कथा वाचक पंडित श्री प्रदीप मिश्रा से आशीर्वाद प्राप्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने व्यास पीठ का नमन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज यहाँ भक्तों का समुद्र उमड़ पड़ा है। पंडित प्रदीप मिश्रा ने मध्यप्रदेश और देश को शिवमय बना दिया है। आपने भक्ति रस की अदभुत गंगा बहाई है। भगवान भोले शंकर की अर्चना का अपना महत्व है। भगवान शिव उन सभी को भी स्वीकार करते और आशीर्वाद देते हैं, जिन्हें सभी ने त्याग दिया है। उन्होंने लोक कल्याण के लिए विषपान किया। भगवान शिव की कृपा कैसे हो, यह बताने का कार्य पंडित प्रदीप मिश्रा कर रहे हैं। हमारी पृथ्वी अदभुत है। मानव जीवन का अंतिम लक्ष्य परमात्मा की प्राप्ति है। भगवान शिव की कृपा सभी पर बरसे, यही प्रार्थना है। ज्ञान मार्ग के साथ भक्ति मार्ग और कर्म मार्ग आवश्यक है। प्रत्येक व्यक्ति अपना दायित्व ईमानदारी से पूर्ण करें, यह आवश्यक है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आज पंडित प्रदीप मिश्रा के साथ पौधा लगाने का सौभाग्य मिला है। पंडित जी ने भी पर्यावरण-संरक्षण का संदेश दिया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्री शिव महापुराण कथा सुनने एकत्र हुईं लाखों बहनों और नागरिकों को प्रणाम करते हुए कहा कि हम सभी को बेटियों को आगे बढ़ाना है। राज्य सरकार ने कन्या विवाह, लाड़ली लक्ष्मी एवं लाड़ली बहना योजना और स्थानीय निकायों में बहनों को आरक्षण देकर उन्हें आगे बढ़ाने का कार्य किया है। बेटियों के सम्मान को आँच पहुँचाने वालों को दंडित किया जा रहा है। साथ ही मध्यप्रदेश में मूक प्राणियों के बीमार होने पर एम्बुलेंस की व्यवस्था भी प्रारंभ की गई है। बैल, गाय, बछिया आदि बीमार हों, तो उन्हें अस्पताल ले जाने में अब कठिनाई नहीं होगी। हर आत्मा, परमात्मा का अंश है। एक ही चेतना सभी में व्याप्त है। पंडित प्रदीप मिश्रा सीहोर जिले में कुबरेश्वर धाम में विराजते हैं। उन्होंने वातावरण को भक्तिमय बना दिया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंत्री श्री विश्वास सारंग के प्रति पाँच दिवसीय श्री शिव महापुराण कथा के इस अनुष्ठान के लिए आभार व्यक्त किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पंडित प्रदीप मिश्रा का अभिनंदन किया और उनका आशीर्वाद प्राप्त किया।

सांसद श्री वी.डी. शर्मा, श्री हितानंद शर्मा, महापौर श्रीमती मालती राय, श्री भगवानदास सबनानी, श्री सुमित पचौरी, श्री अजय श्रीवास्तव 'नीलू' एवं अन्य जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी