देश की अखण्डता के वैभवशाली स्वरूप के बारे में लोगों को बताएं - राज्यपाल श्री पटेल

देश में उभर रहे नए अवसरों को जानने और समझने का मौका, युवा संगम योजना राज्यपाल से युवा संगम योजना में आए कर्नाटक के विद्यार्थियों ने की सौजन्य भेंट

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा है कि युवा देश की अखण्डता के वैभवशाली स्वरूप के बारे में लोगों को बताएं। वे युवा संगम योजना में भ्रमण को हमारी अनेकता में एकता के वैभव, सामुदायिक जीवन और भाई-चारे की गौरवशाली परंपराओं से परिचित होने का अवसर बनाएं। खान-पान, रहन-सहन, भाषा की अनेकता के बीच हमारे नैतिक जीवन मूल्यों और दर्शन की एकात्मकता की सांस्कृतिक परंपराओं, भावनात्मक मान्यताओं में सकारात्मक सोच के साथ समावेशी संस्कृति की विविधता और राष्ट्रीय एकता की मज़बूती में सहयोगी हों।

श्री पटेल राजभवन में आज एक भारत श्रेष्ठ भारत अभियान  में भारत सरकार की युवा संगम योजना के दूसरे चरण में मध्यप्रदेश आए कर्नाटक के विद्यार्थियों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कर्नाटक के विद्यार्थियों को भोपाल स्थित जनजातीय संग्रहालय के भ्रमण के लिए प्रेरित किया। इस अवसर पर राज्यपाल के प्रमुख सचिव श्री डी.पी. आहूजा, राज्यपाल के उपसचिव श्री स्वरोचिष सोमवंशी, मेनिट के प्राध्यापक, कर्नाटक से आए प्राध्यापक और 39 छात्र-छात्राएं मौजूद थे।

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने विद्यार्थियों से कहा कि भ्रमण के दौरान देश में उभर रहे नए अवसरों को जानें समझें और समकालीन संस्कृति एवं सभ्यता के विभिन्न पहलुओं से परिचित हों। देश में हो रहे, सुखद बदलावों से प्रेरणा लें। विकास और प्रगति की जानकारियां युवा और बच्चों के साथ साझा करें। भारत की अनेकता में एकता की अद्भुत पहचान को मजबूत बनाने और दुनिया में भारत का गौरव बढ़ाने में युवाओं की भूमिका महत्वपूर्ण है। उसी राष्ट्र का भविष्य सुखद होता है, जिसका युवा स्वस्थ, शिक्षित और राष्ट्र हित को सर्वोपरि मानकर कार्य करता है।

राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि  प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी को युवाओं से बहुत आशाएँ और अपेक्षाएँ हैं। उन्होंने युवाओं की ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ाने और  न्यू इंडिया के निर्माण में युवाओं की सक्रिय भागीदारी के नए अवसर खोले हैं। युवाओं का यह कर्तव्य है कि वे देश, समाज की मजबूती, वंचित वर्गों के उत्थान के लिए सर्वश्रेष्ठ योगदान करें। जीवन में सदैव देश और माता-पिता के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का ईमानदारी से निर्वहन करें। 

      राज्यपाल के समक्ष कार्यक्रम में कर्नाटक राज्य के विजयपुर से आए छात्र विशाल ने यात्रा के अनुभवों को साझा किया। छात्रा कु. रेखा ने आतिथ्य व्यवस्था के लिए आभार ज्ञापित किया। राज्यपाल को मेनिट के संकाय अध्यक्ष प्रोफेसर के.आर. अहरवाल ने स्मृति चिन्ह भेंट किया। आभार ज्ञापन प्रोफेसर टी.एन. वर्मा ने किया। राज्यपाल का भ्रमण-दल के प्रतिभागी रोहित और अनन्या ने पौधा भेंट कर स्वागत किया।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी