प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में हो रहे हैं किसान-कल्याण के कार्य : मुख्यमंत्री श्री चौहान

किसी किसान को डिफॉल्टर नहीं रहने देंगे, हर किसान को मिलेगा जीरो प्रतिशत ब्याज पर फसल ऋण किसान अपनी सोसाइटी में आएँ, सूची देखें और आवेदन भरें परिवर्तित मध्यकालिक फसल ऋण के ब्याज की राशि भी सरकार भरेगी गत 3 वर्ष में 2 लाख 31 हजार 322 करोड़ रूपए की राशि किसानों के खातों में अंतरित मुख्यमंत्री ने किया सागर से मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजना-2023 का शुभारंभ मुख्यमंत्री ने स्वयं भरे किसानों के फार्म और ब्याज माफी प्रमाण-पत्र दिये

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि हमारी सरकार किसानों की सरकार है, प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में पूरे देश में किसान-कल्याण के कार्य हो रहे हैं। पुरानी सरकार ने कर्ज माफी के नाम पर किसानों को ठगा और उन्हें डिफॉल्टर बना दिया। उन्होंने 10 दिन में किसानों की कर्ज माफी की घोषणा की और सवा साल में 48 हजार करोड़ के कर्जे में से सिर्फ 6 हजार करोड़ का कर्जा माफ किया। यह किसानों के साथ बड़ा धोखा था। किसानों के सर पर कर्ज की गठरी ला दी गई और वे डिफॉल्टर हो गए। इससे उन्हें फसल ऋण मिलना बंद हो गया। हमारी सरकार ऐसे प्रत्येक किसान की ब्याज की राशि भरेगी, जिससे वे डिफॉल्टर न रहे और उन्हें जीरो प्रतिशत ब्याज पर फसल ऋण योजना का लाभ मिल सके।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज सागर में मुख्यमंत्री कृषक ब्याज माफी योजना-2023 का विधिवत शुभारंभ किया। इसी के साथ प्रदेश की सभी 4536 कृषक प्राथमिक सहकारी समितियों में योजना के आवेदन-पत्र भरने का कार्य शुरू हो गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पंचम लाल पटेल सहित कुछ किसानों के कर्ज माफी के फार्म भी स्वयं भरे और उन्हें ब्याज माफी प्रमाण-पत्र दिये। कृषक श्री पंचमलाल पटेल की 8782 रूपये की और श्री जुगरेन्द्र चिरार की 40 हजार 303 रूपये की ब्याज राशि माफ की गई।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सभी प्राथमिक सहकारी समितियों में उन सबके नाम की सूची प्रकाशित की गई है, जो ब्याज की राशि न भर पाने के कारण डिफॉल्टर हो गए हैं। किसान अपनी सोसाइटी में जाएँ, सूची देखें और नि:शुल्क आवेदन भरें। वे आवेदन की पावती भी प्राप्त करें। ऐसे सभी किसानों के ब्याज की राशि सरकार भरेगी और इसी के साथ डिफाल्टर किसानों को भी जीरो प्रतिशत ब्याज पर अगली फसल के लिए फसल ऋण मिलना प्रारंभ हो जाएगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि ऐसे किसान जिनकी फसलों को नुकसान हुआ था, उनके अल्पकालिक फसल ऋण को मध्यकालिक फसल ऋण में परिवर्तित कर दिया गया था। ऐसे किसानों के ब्याज की राशि भी सरकार भरवा रही है। यह राशि लगभग 2123 करोड़ रूपए है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार ने विभिन्न योजनाओं में गत 3 वर्ष में 2 लाख 31 हजार 322 करोड़ रूपए की राशि किसानों के खातों में डाली है। इसमें 94 हजार 394 करोड रूपए फसल उपार्जन की, 47 हजार 188 करोड़ रूपए की राशि खेती के लिये बिजली प्रदाय के अनुदान की, 15 हजार 541 करोड़ रूपए मुख्यमंत्री किसान सम्मान निधि की, 7 हजार 963 करोड़ रूपए मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना की, 4 हजार 82 करोड़ रूपए फसल मुआवजा की, 115 करोड़ रूपए सोलर पंप पर अनुदान की और 4375 करोड़ रूपए की कृषि अधो-संरचना विकास की राशि शामिल है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारी सरकार सदैव किसानों के साथ खड़ी है। कोविड जैसे संकट काल में भी सरकार ने निरंतर किसान-कल्याण के कार्य किए और बड़ी राशि उनके खाते में डाली। हाल ही में हुए फसल नुकसान की राशि भी किसानों को दी गई है। यदि कोई किसान मुआवजे से छूट गये हैं तो उसका भी सर्वे करवा कर उचित मुआवजा दिया जाएगा।

सहकारिता मंत्री श्री अरविंद सिंह भदोरिया ने कहा कि आज का दिन प्रदेश के किसानों के लिए ऐतिहासिक है। पुरानी सरकार की कर्ज माफी की झूठी घोषणा से डिफाल्टर हुए किसानों की ब्याज की राशि माफी की योजना आज प्रदेश में प्रारंभ की गई है। योजना में प्रदेश के लगभग 11 लाख किसानों के 2200 करोड रूपए के ब्याज माफ होंगे। इससे किसान सरकार की जीरो प्रतिशत ब्याज पर फसल ऋण योजना का लाभ भी ले सकेंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन और कन्याओं के पूजन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में आये किसान भाईयों का पुष्प-वर्षा कर स्वागत किया। लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री श्री भूपेंद्र सिंह, राजस्व एवं परिवहन मंत्री श्री गोविंद सिंह राजपूत, सांसद श्री राजबहादुर सिंह, विधायक श्री प्रदीप लारिया, जन-प्रतिनिधि, अधिकारी और बड़ी संख्या में किसान बन्धु उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

सनातन संस्कृति की रक्षा में संतों का अद्वितीय योगदान है - मुख्यमंत्री डॉ. यादव