केवट समाज की प्रगति, विकास और उन्नति में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

शासकीय तालाब और जल-संरचनाओं पर पहला हक मछुआरों का मुख्यमंत्री निवास में केवट जयंती कार्यकम आयोजित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भगवान श्रीराम और मैया सीता को निषादराज केवट ने गंगा पार लगाया था। केवट की श्रीराम के प्रति असीम श्रद्धा और भक्ति थी। निषादराज भारतीय समाज के लिए भगवान से कम नहीं है। केवट समाज सरल, मेहनती और साहसी समाज है। केवट समाज ने आजादी की लड़ाई में अंग्रेजों को धूल चटा दी थी। मुख्यमंत्री श्री चौहान, मुख्यमंत्री निवास पर केवट जयंती कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। जल संसाधन, मछुआ कल्याण तथा मत्स्य-पालन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, अध्यक्ष मछुआ कल्याण बोर्ड श्री सीताराम बाथम, श्री पिंटू केवट, श्री राकेश बाथम, श्री प्रेमलाल वर्मन, श्री राजू बाथम, श्री महेश केवट सहित अन्य पदाधिकारी और समाज के गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शासकीय तालाब और जल-संरचनाओं पर पहला हक मछुआरों का है। दबंगों से तालाबों का कब्जा वापस लेकर मछुआरों को दिया जाएगा। प्रदेश में अभियान चला कर केवट समाज को कब्जा देने का कार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि समिति बना कर शासकीय सेवा के लिए जाति प्रमाण-पत्र की विसंगति दूर करेंगे। शासकीय सेवा में जो कर्मचारी हैं, उन्हें सेवा से बाहर नहीं किया जाएगा। जहाँ केवट समाज की बहुलता है वहाँ निषादराज स्मारक, भवन बनाएंगे एवं मूर्तियाँ लगाई जाएंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि केवट समाज के युवाओं को परम्परागत व्यवसाय के अलावा दूसरे व्यवसायों में भी आगे आने की कोशिश करनी चाहिए। मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना में काम-धंधे के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे। मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई भी हिन्दी में की जा रही है, जिससे हमारे बच्चे अंग्रेजी के कारण पीछे न रह जाएँ। सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिए मेडिकल की सीटों में 5 प्रतिशत सीट्स रिजर्व कर दी गई हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि लाड़ली बहना योजना में बहनों के खातों में 1000 रूपए हर महीने डाले जाएंगे। समाज की प्रगति विकास और उन्नति में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। मिल कर सब साथ चलेंगे। पूरी ताकत से आगे बढ़ेंगे।

जल संसाधन मंत्री श्री तुलसी सिलावट ने कहा कि आज का दिन पवित्र अवसर है कि मुख्यमंत्री निवास पर केवट जयंती मनाई जा रही है। केवट जयंती विकास और प्रगति में नींव का पत्थर साबित होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान केवट समाज का गौरव बढ़ाने, प्रगति और विकास के लिए निरंतर काम कर रहे हैं। मत्स्य-पालन विभाग पूरे राष्ट्र में कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। इसका श्रेय मुख्यमंत्री श्री चौहान और केवट समाज के नागरिकों को जाता है। पूरे प्रदेश में तेजी से मछुआ क्रेडिट कार्ड बन रहे हैं। समाज के विकास के लिए कोई कमी नहीं छोड़ी जाएगी। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री श्री चौहान के नेतृत्व में सरकार आपके साथ खड़ी है।

अध्यक्ष मछुआ कल्याण बोर्ड श्री सीताराम बाथम ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि हमारे समाज के प्रभु केवट ने भगवान राम को नाव में बैठा कर पार लगाया था। केवट समाज का देश के विकास में बहुत योगदान है। उन्होंने मछुआरों और केवट समाज को अधिकार दिलाने की मांग की। भोपाल में ठहरने के लिए रेस्ट हाउस की मांग रखी। प्रदेश में प्रभु केवट की मूर्तियाँ लगाने का भी आग्रह किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पुष्प-वर्षा कर केवट समाज के भाई-बहनों का स्वागत किया और केवट समाज की प्रतीक नाव पर सवार होकर नाव भी चलाई। प्रभु श्रीराम, माता सीता और केवट के चित्र पर पुष्पपांजलि अर्पित की। केवट समाज के प्रतिनिधियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान का स्वागत किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान को समाज के पदाधिकारियों ने स्मृति-चिन्ह भेंट किया। केवट जयंती का शुभारंभ कन्या-पूजन और दीप जला कर किया गया।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी

जिला कुर्मी क्षत्रिय समाज ने राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व अध्यक्ष का किया सम्मान, विशाल वाहन रैली निकाल दिया एकता का परिचय।