महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान अपने कार्यों से निरंतर हो रहा है यशस्वी : मुख्यमंत्री श्री चौहान

संस्थान के नवीन भवन "संस्कृत भवनम्” का लोकार्पण

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि संस्कृत विश्व भाषा है। अन्य भाषाओं की जननी है। वैज्ञानिक भाषा है। महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान ने साबित कर दिया है कि संस्कृत केवल कर्मकाण्ड की भाषा नहीं विज्ञान की भाषा है। संस्कृत पढ़कर बेहतर और अच्छे ढंग से सब कुछ किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान अपने कार्यों से निरंतर यशस्वी हो रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान के नवीन भवन "संस्कृत भवनम्” का लोकार्पण कर रहे थे। कार्यक्रम में संस्कृति मंत्री सुश्री उषा ठाकुर, अध्यक्ष महर्षि पंतजलि संस्थान श्री भरतदास बैरागी, अध्यक्ष मध्यप्रदेश योग आयोग श्री वेद प्रकाश शर्मा, अध्यक्ष नगर निगम भोपाल श्री किशन सूर्यवंशी, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरुण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्री अभय वर्मा सहित संस्थान के पदाधिकारी, शिक्षक, छात्र-छात्राएँ और नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत महान राष्ट्र है। भारत विश्व गुरू के पद पर फिर से अधिष्ठित हो रहा है। हमारे ऋषियों ने विश्व को "सबको अपने जैसा और एक परिवार मानने" का संदेश दिया था। उन्होंने कहा कि जिला एवं विकासखण्ड स्तर तक संस्कृत भाषा के विकास की रणनीति बनाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भारत का योग दुनिया में फैल चुका है। अपना देश पूरी दुनिया को राह दिखाएगा। संस्थान का यह भवन सम्पूर्ण देश को नई दिशा दिखाने में कामयाब होगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संस्थान के लिए अमूल्य सहयोग देने पर श्री चांद किरण सलूजा का सम्मान किया। साथ ही संस्कृत की पाठ्य पुस्तकों का विमोचन किया। उन्होंने मेधावी छात्रों का सम्मान भी किया। मुख्यमंत्री ने छात्रों के खातों में राशि अंतरित की। उन्होंने विभिन्न कंपनियों में चयनित होने वाले विद्यार्थियों को प्रशस्ति-पत्र प्रदान किए। राज्य में 5 स्थानों पर अनुसंधान एवं अध्ययन के लिए प्राध्यापक पीठ स्थापना की घोषणा की।

अध्यक्ष श्री भरत दास बैरागी ने कहा कि यह संस्थान समाज में उपादेयता सिद्ध कर रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान की कल्पना के अनुरुप संस्थान बढ़-चढ़ कर कार्य कर रहा है। आत्म-निर्भर छात्र बनाने के लिए पाठ्यक्रम लागू है। आधुनिक गणित के साथ वैदिक गणित पाठ्यक्रम में समाहित है। कौशल सीखाने का कार्य भी चल रहा है। आत्म-निर्भर भारत के लिए संस्कृत का अहम योगदान है। संस्कृत समाज को जोड़ने और राष्ट्र को एक सूत्र में बांधने की भाषा है। योग, ज्योतिष, खगोल विज्ञान और समाज उपयोगी पाठ्यक्रम संस्थान ने शामिल किए हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने माँ सरस्वती और महर्षि पतंजलि के चित्र के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। अतिथियों का स्मृति-चिन्ह और पुष्प-गुच्छ से सम्मान किया गया। कार्यक्रम में संस्थान के लिए विगत दो वर्षों में राज्य सरकार द्वारा किए गए कार्यों की झलक प्रदर्शित की गई। निदेशक महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान ने आभार माना।

संस्थान की साधारण सभा की बैठक

कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान की साधारण सभा की बैठक मैत्रेयी सभागृह में हुई, जिसमें संस्थान की आगामी गतिविधियों तथा कार्यक्रमों के संबंध में विचार-विमर्श किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संस्कृत आधारशिला योजना का अनुमोदन भी किया।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी

जिला कुर्मी क्षत्रिय समाज ने राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व अध्यक्ष का किया सम्मान, विशाल वाहन रैली निकाल दिया एकता का परिचय।