मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वामी रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर नमन किया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने स्वामी रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर नमन किया

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भारतीय संत परंपरा के प्रेरक संत, महान आध्यात्मिक गुरू और अद्भुत विचारक स्वामी रामकृष्ण परमहंस की जयंती पर नमन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मुख्यमंत्री निवास कार्यालय स्थित सभागार में उनके चित्र पर माल्यार्पण किया। स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने सभी धर्मों की एकता को महत्व दिया। साधना के फलस्वरूप वे इस निष्कर्ष पर पहुँचे कि संसार के सभी धर्म सच्चे हैं और उनमें कोई भिन्नता नहीं है। सभी धर्म ईश्वर तक पहुँचने के भिन्न-भिन्न साधन मात्र हैं। स्वामी विवेकानन्द उनके परम शिष्य थे। मानवीय मूल्यों के पोषक स्वामी रामकृष्ण परमहंस का जन्म 18 फ़रवरी 1836 को बंगाल प्रांत स्थित कामारपुकुर ग्राम में हुआ था। उन्होंने 16 अगस्त 1886 को कोलकाता में देह त्यागी।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी