शिक्षा, अनुसंधान केंद्र और उद्योगों में साझेदारी समय की आवश्यकता

उच्च शिक्षा की उत्कृष्टता, प्रसार और मूल्यांकन के प्रति सजग हों- राज्यपाल श्री पटेल स्टेट लेवल एनालिसिस ऑफ एक्रिडेटेड हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूशन के प्रतिवेदन का लोकार्पण

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि देश-प्रदेश की आर्थिक प्रगति को सुनिश्चित करने, सामाजिक एकता और देश के युवाओं को सशक्त बनाने के लिए अनुसंधान और शिक्षण के बीच तालमेल कर शिक्षा संस्थानों, अनुसंधान केंद्रों और उद्योगों के बीच साझेदारी को प्रोत्साहित किया जाना समय की आवश्यकता है। श्री पटेल आज पीपुल्स विश्वविद्यालय के सभागार में स्टेट लेवल एनालिसिस ऑफ एक्रिडेटेड हायर एजुकेशन इंस्टीट्यूशन प्रतिवेदन के लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा कि नागरिकों एवं समाज की प्रगति और उन्नति काफी हद तक शिक्षा के विकास, विशेषकर उच्च शिक्षा पर निर्भर करती है। आवश्यकता अंतर्राष्ट्रीय मानकों और चुनौतियों के अनुसार उच्च शिक्षा संस्थानों की गुणवत्ता, ज्ञान और नवाचार के साथ ही शिक्षा की उत्कृष्टता, प्रसार और मूल्यांकन के प्रति सजग होने की है। यह समझना ज़रूरी है कि उच्च शिक्षा प्रणाली के विस्तार के लिए हमें शिक्षण पद्धति में अनिवार्यता सुधार करना होगा, तभी संस्थान की प्रासंगिकता और अस्तित्व बना रह सकेगा। इसलिए ज़रूरी है कि उच्च शिक्षा को इस तरह से डिजाइन किया जाए कि वह समाज को जिम्मेदार और सभ्य नागरिक प्रदान करे, जो राज्य और लोगों की सेवा एवं भविष्य की चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हो।

राज्यपाल श्री पटेल ने सभी उच्च शिक्षा संस्थानों से आग्रह किया है कि दर्पण के समान आत्म-निरीक्षण और आत्म-चिंतन के लिए नैक की रिपोर्ट का उपयोग करें। रिपोर्ट में रेखांकित विषयों पर विशेष ध्यान दें। संस्थान की व्यवस्था में सुधार करें। उच्च शिक्षा के वातावरण में मौजूद स्थायी प्रथाओं की पहचान कर, शिक्षा के सभी हितधारकों को सर्वोत्तम शैक्षिक अनुभव प्रदान करना सुनिश्चित करें। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के परिदृश्य की कल्पना करते हुए, नैक गुणवत्ता विश्लेषण रिपोर्ट में सुझाए गए संशोधन, पुन: डिजाइन और पुनर्गठन के द्वारा शिक्षार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शैक्षणिक अनुभव प्रदान करने की व्यवस्था करें। शिक्षण और सीखने की गुणवत्तापूर्ण व्यवस्था को सुनिश्चित करने के लिए संस्थानों का बुनियादी ढाँचा भी मज़बूत बनाना आवश्यक है। उन्होंने आशा की है कि विश्लेषण रिपोर्ट राज्य के मान्यता प्राप्त उच्च शिक्षा संस्थानों में शिक्षा में गुणवत्ता को बढ़ाने के उपायों को लागू करने में गति लाएगी।

नैक के संचार सह प्रकाशन अधिकारी प्रो. वहीद उल हसन ने राज्य स्तरीय विश्लेषण प्रतिवेदन की जानकारी दी। पुस्तक के लेखक नैक के सलाहकार स्व. गणेश हेगड़े के योगदान का स्मरण किया। विशेषज्ञ डॉ. डी.एन. संसवाल ने बताया कि 7 मानदंडों का विश्लेषण प्रतिवेदन में किया गया है। पीपुल्स विश्वविद्यालय के कुलपति राजेश कपूर ने स्वागत उद्बोधन दिया। नैक के सहायक सलाहकार श्री श्याम सिंह इंदा ने आभार माना। राज्यपाल का कार्यक्रम में पुष्प-गुच्छ एवं स्मृति-चिन्ह भेंट कर स्वागत किया गया।

आयुक्त उच्च शिक्षा श्री कर्मवीर शर्मा, प्रोचांसलर पीपुल्स विश्वविद्यालय डॉ. मेधा विजयवर्गीय, नैक की सहायक सलाहकार डॉ. विनीता साहू और प्रतिवेदन के सह लेखक स्व. गणेश हेगड़े की पत्नी श्रीमती मुकाम्बी हेगड़े सहित विभिन्न विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालयों के प्राध्यापक, प्रबंधक और उच्च शिक्षा से जुड़े विशेषज्ञ मौजूद थे।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

प्रदेश के सभी जिलों को एयर एंबुलेंस सुविधा दिलाने के लिए होगी पहल