PM मोदी से कन्नी काट रहे नीतीश? नमामि गंगे की बैठक में शामिल नहीं होने का खुद बताया कारण

क्या बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कन्नी काट कर रहे हैं? ऐसी अटकलें तब तेज हुई जब बिहार के मुख्यमंत्री ने इसी महीने के अंत में कोलकाता में होने वाली नमामि गंगे की बैठक में शामिल होने से इंकार कर दिया। अब इस बैठक में शामिल नहीं होने का कारण नीतीश ने खुद बताया है।

एनडीए से नाता तोड़ने और महागठबंधन के साथ बिहार में सरकार बनाने के बाद से जदयू नेता और बिहार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दूरियां बना रहे हैं। कहा जा रहा है कि वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कन्नी काट कर रहे हैं? ऐसी अटकलें तब तेज हुई जब बिहार के मुख्यमंत्री ने इसी महीने के अंत में कोलकाता में होने वाली नमामि गंगे की बैठक में शामिल होने से इंकार कर दिया। इससे पहले कोलकाता में ही गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में आयोजित पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक में नीतीश ने तेजस्वी को भेजा था। पूर्वी क्षेत्रीय परिषद की बैठक के बाद नमामि गंगे की बैठक से खुद को दूर कर पीएम से दूरी बनाने की अटकलें और तेज हुई थी। लेकिन अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद इसका कारण बताया है।

30 दिसंबर को कोलकाता में पीएम की अध्यक्षता में नमामि गंगे की बैठक प्रधानमंत्री 30 दिसंबर को कोलकाता में 'नमामि गंगे' कार्यक्रम के लिए जा रहे हैं। नीतीश कुमार ने वहां नहीं जाने का फैसला किया है और कहा है कि इस कार्यक्रम में वह अपने डिप्टी तेजस्वी यादव को भेजेंगे। केंद्र ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी, बिहार के नीतीश कुमार, उत्तर प्रदेश के योगी आदित्यनाथ और अन्य सहित सभी उत्तर और पूर्वी भारतीय राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आमंत्रित किया है। ममता इस कार्यक्रम में शामिल होने वाली हैं, लेकिन नीतीश कुमार इसमें शामिल नहीं होंगे।


ईस्टर्न जोनल काउंसिल की बैठक में शामिल नहीं हुए थे नीतीश बिहार में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद हाल ही में कोलकाता में अमित शाह की अध्यक्षता में हुई ईस्टर्न जोनल काउंसिल की बैठक में नीतीश कुमार ने हिस्सा नहीं लिया। उस मौके पर भी उन्होंने तेजस्वी यादव और राज्य के वित्तमंत्री विजय कुमार चौधरी को भेजा था। इस मसले पर जदयू प्रवक्ता अभिषेक झा ने कहा कि वह राज्य के मुख्यमंत्री हैं और उनके पास यहां कई काम हैं, इसलिए वह वहां नहीं जा रहे हैं।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

सनातन संस्कृति की रक्षा में संतों का अद्वितीय योगदान है - मुख्यमंत्री डॉ. यादव