फीचर आर्टिकल: शिलाजीत के बारे में तो सभी जानते हैं, लेकिन हम जिस शिलाजीत का सेवन करते हैं वह कितना शुद्ध है?

 



कपिवा, एक शोध और विज्ञान पर आधारित आधुनिक आयुर्वेदिक ब्रांड है, यह आपको हिमालय की 18000+ फीट की ऊंचाई से प्राप्त 100% शुद्ध शिलाजीत पेश करता है, जिसे 7 चरणों वाली आयुर्वेदिक शोधन प्रक्रिया के माध्यम से रिफाइन किया जाता है।।

हिमालय की 18,000 फीट ऊंचाई से निकाला गया शिलाजीत अपने शुद्धतम स्वरूप में रहेगा और कपिवा की टीम इसकी शुद्धता और सुरक्षा को प्रमाणित करती है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि शिलाजीत को भारी धातुओं से मुक्त करने और सेवन के लिए सुरक्षित बनाने के लिए कठोर शुद्धता प्रक्रिया अपनाई जाती है। इसे शोधन प्रक्रिया कहा जाता है। कपिवा का कहना है कि हिमालयन शिलाजीत के हर बैच का एक समान शुद्धता परीक्षण किया जाता है और वह लैब परीक्षण रिपोर्ट के साथ आता है।

शिलाजीत में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में 80 से ज्यादा खनिज होते हैं। यह शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाता है और मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिये फायदेमंद है।

“कपिवा में, हम 18,000 फीट की ऊंचाई से 100% शुद्ध हिमालयन शिलाजीत लेकर आते हैं, ताकि इसकी सबसे शक्तिशाली गुणवत्ता सुनिश्चित हो सके। साथ ही हम शिलाजीत के हर बैच की प्रयोगशाला में हुई शुद्धता परीक्षण रिपोर्ट भी बनाते हैं। 100% शुद्ध शिलाजीत मिलना कठिन है, लेकिन कपिवा में हम कठोर आयुर्वेदिक प्रक्रियाओं का पालन करते हुए शुद्धता को सुनिश्चित करते हैं, ताकि आपको इसका अधिकतम फायदा मिल सके। ”

- डॉ. कृति सोनी, कपिवा एकेडमी ऑफ आयुर्वेदा

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी