एक भी बच्चा वैक्सीनेशन से न छूटे - कलेक्टर श्री लवानिया 3 जनवरी से 15 से 18 वर्ष के बच्चों का होगा कोविड वैक्सीनेशन

कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने कहा कि शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास एवं नगर निगम मिलकर इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करें। एक भी बच्चा वैक्सीनेशन से छूटे नहीं। यह कार्य पूर्ण गंभीरता से प्राथमिकता के आधार पर करें। शासन के निर्देशानुसार 3 जनवरी 2022 से 15 से 18 वर्ष तक के सभी बच्चों का कोविड-19 वैक्सीनेशन कराया जाएगा। इसी संबंध में कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया ने गुरूवार को समीक्ष की। बैठक में कोविड वैक्सीनेशन के व्यापक प्रचार-प्रसार के निर्देश दिये गये। उन्होंने कहा कि 15 से 18 वर्ष के किशोर बालक-बालिकाओं के लिये अलग से डेडिकेटेड वैक्सीनेशन टीम के साथ डेडिकेटेड सत्र स्थल स्कूलों में ही बनाए जाएं। शालाओं में आयोजित होने वाले कोविड-19 वैक्सीनेशन सत्रों में कक्षावार अप्रोच के साथ वैक्सीनेशन किया जाए। इसके लिये तीन अलग कक्ष बनाए जाएं । वैक्सीनेशन के लिये प्रतीक्षा कक्ष, पंजीयन कक्ष अलग-अलग हो और टीकाकरण निगरानी कक्ष बच्चों को केवल को-वैक्सीन ही लगाया जाएगा। प्रत्येक सत्र स्थल पर एईएफई प्रबंधन की संपूर्ण व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गये।

वैक्सीनेशन के लिये पंजीयन

15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेशन के लिये पंजीयन प्रक्रिया कोविन पोर्टल पर एक जनवरी से प्रारंभ की जाएगी। साथ ही ऑनलाइन पंजीयन की सुविधा भी सत्र स्थल पर 3 जनवरी को उपलब्ध रहेगी।

ड्रॉपआउट बच्चों का भी होगा वैक्सीनेशन

शिक्षा एवं महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सभी ड्रॉपआउट बच्चों का डाटा प्राप्त कर वैक्सीनेशन किया जाएगा। प्रशासन द्वारा सभी ड्रॉपआउट बच्चों का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन के लिये कारगर प्रयास किये जाएंगे।

मेडीकल टीम एवं शिक्षा विभाग के होंगे समन्वित प्रयास

15 से 18 वर्ष तक के किशोर बालक-बालिकाओं के वैक्सीनेशन में स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के समन्वित प्रयास होंगे। शिक्षा विभाग अपने सभी बच्चों की उपस्थिति सुनिश्चित करेगा। संकुल प्राचार्य अपने स्कूलों में वैक्सीनेशन के लिये सारी व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। वैक्सीनेशन के साथ ही तत्काल पोर्टल पर एंट्री कराना सुनिश्चित करेंगे। अपने सभी बच्चों को टीकाकरण संबंधी सभी जानकारी देकर स्वयं एवं आसपास के सभी बच्चों को टीकाकरण करने के लिये प्रेरित करेंगे। स्वास्थ्य विभाग की टीम वैक्सीनेशन के साथ सभी इमरजेंसी व्यवस्था सुनिश्चित करेगी। प्रत्येक मेडीकल टीम प्रतिदिन 200 बच्चों का वैक्सीनेशन करेगी। टीकाकरण के प्रोटोकॉल के अनुसार ओआरएस सहित अन्य इमरजेंसी किट एवं इमरजेंसी होने पर एम्बुलेंस से तत्काल बच्चों को निकट के स्वास्य्ड संस्था में भेजने की व्यवस्था करेगी। बैठक में एडीएम श्री दिलीप केरकेट्टा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रभाकर तिवारी, जिला शिक्षा अधिकारी श्री नितिन सक्सेना, सभी बीएमओ, संकुल प्राचार्य, शालेय कोविड टीकाकरण के समस्त नोडल अधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

कोविड-19 महामारी में बचाव कार्य करने वाले समस्त कोविड स्टाफ को बहाल किया जाए एवं संविदा नियुक्ति दी जाए:- डॉ सूर्यवंशी