भूख, रैंकिंग विवाद और आंकड़ों में खामियां : डाटा संग्रह की बदतर व्यवस्था और जीडीपी में वृद्धि का लक्ष्य

हमेशा ग्लोबल रैंकिंग का दोतरफा प्रभाव होता है। या तो उससे खुश हुआ जाता है, उस पर मुहर लगाई जाती है,या उसे खारिज किया जाता है। पिछले महीने ग्लोबल हंगर इंडेक्स जारी हुआ।

from Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | - Amar Ujala https://ift.tt/S0iR1ZV

Comments

Popular posts from this blog

स्व. श्री कैलाश नारायण सारंग की जयंती पर संपूर्ण देश में मना मातृ-पितृ भक्ति दिवस

श्री हरिहर महोत्सव समिति के अध्यक्ष बने राजेंद्र शर्मा

प्रदेश के सभी जिलों को एयर एंबुलेंस सुविधा दिलाने के लिए होगी पहल