Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

आबकारी मंत्री शराब की शराब की वृहद मंडलेश्वर: अंश सदानंद बोल- कधीर लखमा से बंदबंदी परसुंध, ये मेरी देनदारी; धर्मग्रन्थ ठीक नहीं

रायपुर4 पहलेलेखक: सुमन हिंदू

छत्तीसगढ़ के आबकारी मंत्री कसूर लखमा का 4 उनके बंगले पर इसे लेकर तैयारी जोरों पर है। खासतौर पर उन्हें आशीर्वाद देने देश के जाने-माने संत निरंजनी अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर कैलाशानंद गिरी हरिद्वार से रायपुर पहुंचे हैं। दैनिक भास्कर को लेख ने कहा कि, मैं मंत्री कसूरी लखमा को भविष्य कहूं, प्रबंधक का गुण क्या है यह मेरा आदर है। शराब बंद करने के लिए यह जरूरी है। देश और समाज की रक्षा हम सभी की गतिविधियों में, घरेलू शराब बन्दी की आदतें, ये मेरा कर्तव्य है।

गांधी कर्म से
26 को दिसंबर में रायपुर में धर्म सभा में महाराष्ट्र के कालीचरण का कार्यक्रम, निरंजनी अखाड़ा के सदस्य महामंडलेश्वर रासमंदर को लॉग इन करेंगे। 13 अखाड़ा खो गया। संबंधित संतों का हम हैं। अगर ठीक ठीक हो तो सौदा करने के लिए. राष्ट्रिय जाति के अनुसार वे कुशल थे, वेशु से घुमने वाले शब्द से शब्द थे। भारत एक स्वतंत्र वातावरण में है, बाहरी वातावरण के अनुसार, किसी भी व्यक्ति के संक्रमण पर नियंत्रण करता है।

सनातन के बाद दो धर्म धर्म और बुद्ध
कैलासनंद बैरी से ‍‍‍ उत्तर में कैलासनन्दी ने कहा कि सनातन धर्म 50 हजार, लाख, करोड़ वर्ष पुराना है। काम बंद कर रहा है। जन के 24 में से 8 वाँवावर्तन ऋषभ देव का जो जैनियों के प्रथम त्रितांकर, 10वाँ शब्द बुध्द। सनातन धर्म के बाद दो धर्म। हम किसी भी धर्म के खंडन या दूषित नहीं हैं। गलत होने पर गलत कर सकते हैं। सनातन धर्म अनादि काल से, अनादि काल तक।

धर्मग्रमाण्य होना चाहिए
महामंडलेश्वर से पूछा गया छत्तीसगढ़ समेत बहुत से राज्यों में दूसरे धर्म से लोगों को जोड़ा जा रहा है, क्या ये सही है? इस पर लागू करने योग्य लागू नहीं है, ये धर्म के हिसाब से उचित है। कृष्ण कृष्ण ने गीता में कहा कि सभी को बदनाम करने के लिए सम्मानित किया गया है। किसी भी प्रकार से अपराध अपराध है। आज जबरन पिता को जोर पुत्र पर नहीं चलता तो आप कैसे किसी पर जबरन ये धर्म बदलने को कह सकते हैं।

स्वच्छता राष्ट्र का है, पार्टी का
क्या बल्लेबाज़ और बल्लेबाज़ों को उनसे संपर्क करना चाहिए? इस प्रश्न के उत्तर में गणानंद ने कहा कि जन चरित्र का संस्कार होगा, चरित्र की संतान की, व्यवहार की, सरोकार की बात करे, काम करे तो भारत के संत आदर्श, काम करने वाले को अभिज्ञात संतों है। मेरे लिए एक समान हैं जो धर्म और राष्ट्र हितैषी हैं।

कौन हैं महामंडलेश्वर
मंडल में श्री पंचायती निरंजनी अखाड़ा के अंश महामंडलेश्वर कैलासन्दरबारी हैं। महामंडलीय के बीच के वेद, उपनिषद और उपनिषद है, विज्ञान का संपूर्ण ज्ञान को परखा है। कैलासानंद इस घड़ी में सनातन धर्म के 7 लेख में एक हैं। बड़ी संख्या में अखाड़ा देश के बड़े अखाड़े में होते हैं। जूना अखाड़ा लगाने के बाद, उसने सबसे पहले टेस्ट किया। वो देश के 13 अखाड़ा एक है। निरंजनी अखाड़ा की सन 904 में सेट करें.

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: