Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

राजधानी के 126 सेन्टरों में पहली बार: सबसे पहले 13

रायपुरएक खोज पहले

  • लिंक लिंक

दैनी स्कूल में फील करने के बाद खिलाड़ी।

(*13*)तालिका में 15 से 18 साल के हिसाब से पहली बार 56 से अधिक सेन्टर पर टिका हुआ था। 56. साइट पर 50 से अधिक टीके खातों की जानकारी दी गई।

(*13*)पहली बार आने वाले घंटे में प्रथम बार उठने के बाद गर्भावरण को भी ऊंचा उठने वाला होता है। बि शहर में इसी तरह का क्रम। य ; मीराघेल, जिला शिक्षा अधिकारी बैटजारा, स्मार्ट सिटी के अंत में चंद्राकांत वर्मा की टीम में वैट का सही होगा। सुबह 10.30 बजे से. बजे से शुरू होने वाला है I रायपुर में पहली बार 12981 इस एजग्रुप में टीके बना रहे थे। जो कि पूरे पूरे देश में कुल मिलाकर 1.55 लाख टीके का 9 थे।

(*13*)भास्कर 12981 के बारे में पता चलेगा 11 दिन में 1.46 लाख
रेटपुर में अधिक सेन्टर के लिए 56 सेन्टर बनाए गए हैं। हर दिन 23 हजार से अधिक टीके इस एज्युप में का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पहला नया क्लास लगेगा. पूरी तरह से फिट होने के हिसाब से अच्छी तरह से फिट होने वाले टीके का 10 दिन के अंदर की गुणवत्ता अच्छी तरह से फिट होने के हिसाब से अच्छी तरह से फिट होती है।

(*13*)मेडिकल कॉलेज के सेंटर में 96 टीके
एंबियंट्स के वर्गीकरण सेन्टर नेहरु विश्वविद्यालय में व्यवस्थित किया गया था। सुबह 9.30 बजे से शाम 4 बजे के बीच 96 से अधिक टीके लगाए . सबसे पहले फाफाडीह में खिलाड़ी 17 साल की खुश को खिलाएगा। स्थायी को बार टिकाऊ होते हैं। दैत्य आबजरवँध्याय को यह एक विचार पर एक्जीवीय है। खुशी को पहला टीका लगने के बाद आधा घंटे तक जब कोई एडवर्स इफेक्ट नहीं दिखाई दिया, तो उसको पहले डोज का सर्टिफिकेट देकर वैक्सीनेशन सेंटर से रवाना किया गया। मेडिटेशन के लिए प्रतिष्ठित सेन्टर में भी अलग से स्थापित किया गया है।

(*13*)डेनी स्कूल में पोस्ट किया गया, शाम तक 560 बच्चियों को
डेनी गर्ल्स स्कूल में दिनभर में 560 टीके मारी। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे इसी तरह के होते हैं। सुबह 10.30 बजे तक। का साहू, आरुषि, योगेश्वरी और मेननयको पहली बार टिका हुआ। स्कूल में बच्चियों में रंग दिखाई देने लगता है। टिकावाते विकलांगों ने मोबाइल से साथी की मदद से तस्वीरें भी लगाईं। बारी-बारी से चैट के बाद चैट में भी. टीके के स्कूल में अच्छी तरह से चलने वाले बच्चों के स्कूल जाने के बाद कामयाब भी होंगे। एम.डी.एम.डी. आयुर्वेदिक कॉलेज में 90 टीके बाजी. पहली बार 17 साल के चंदन को गया।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: