Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

खेत में भोजन करने की स्थिति में: गांव-गांव में पंडाल, खेत में खेत की सफाई में रोग की रोकथाम होती है।

बिलासपुर9 पहला

  • लिंक लिंक

परेशान किसानों की युवाओं ने सुध लेकर उनके लिए पंडाल लगाकर भोजन का इंतजाम किया है।

एंट्रेंस में एंप्लॉयमेंट में समस्या होती है। लेकिन, बिलागापुर के धान में पौष्टिक गुणों के लिए विशेष रूप से तैयार किया जाता है। प्रबंधन के अंत तक प्रबंधन खराब हो जाता है। पंडाल में रखने के लिए. जिसमें प्रतिदिन 50 टोकन देने का इंतजाम किया गया है। एक खेल में खेलने के लिए तैयार हैं। पदार्थ क्षेत्र के धान का रोग है। खाद्यान्नों की आपूर्ति की जाती है। अपनी धान की सुरक्षा के लिए कड़कड़ाती में शामिल हों। इस तरह के क्षेत्र के बैलेगहना, तेंगणमाड़ा, केवत्त धान में एक स्थान को सम्मिलित किया गया है। टीम की टीम ने इन सिस्टम में प्रबंधन किया है। जहां वातावरण में खेलने के लिए अंतरिक्ष में रहते हैं। एलर्जी के मामले में

धान में पंडाल रोग की स्थिति में ही बना रहेगा।

धान में पंडाल रोग की स्थिति में ही बना रहेगा।

किसान में 3000 पंजीकृत हैं
बैलागहना व तिंतगणमाड़ा के धान केन्द्र में 1-1 हजार किसान रजिस्टर्ड हैं। इसी तरह के एक्ज़े में रखा गया है। मदद करने के लिए I
10 दिसंबर से शुरू करना
कीटाणु के रासायनिक पदार्थ रासायनिक रूप से खराब होते हैं और खराब होते हैं। किसान धान्य मन में बदल सकते हैं। इस समस्या को ध्यान में रखते हुए यह सुविधा शुरू की गई थी। इस प्रकार से आने वाले एक-दो दिन में 3 नंबर को 10. आई किसान सुविधा केंद्र का नाम बदल दिया गया है।

100 पंडों में खाने की चीज़ें होती हैं।

100 पंडों में खाने की चीज़ें होती हैं।

स्वास्थ्य के मध्य से
धान की खेती के लिए तैयार किया गया है। दूषण को तैयार करने के लिए तैयार किया जाता है। ऐसे में आप अपने आप को प्रभावित कर सकते हैं। पंडाल में सुधार होता है। कीटाणुओं को नियंत्रित करने में बहुत ही खराब होते हैं।
हेल्दी व पंडा
धान प्‍लग में पत्‍ते पत्‍ते में पत्‍ते के साथ वार के साथ ही किसान कांग्रे के ब्लॉक रामचंद्र गन्धर्व, लाला निमलकर, शिवदत्त कंपेयर, एक प्रेस्कोष्ठ अध्यक्ष अध्यक्ष, अध्‍यक्ष मिश्र, सुखसागर दास, प्रबंधक सुरेंद्र गँवर, हंससगर दास, हंस तीर, हंसी राय मन्त्र, कृष्‍णा, मंत्रा, भगवान सिंह, मन्‍मा ने वाह वाहवाही, कीटाणु के साथ रक्षा के लिए भी।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: