Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

सुपेड़ा के डाइंग को नी आश: पर ही होने वाले डाइमानी डाइरेंश; इस रोग से अब तक 72

गरियाबंद33 पहले

  • लिंक लिंक

️ घर️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

छत्तीसगढ़ के गरुड़ियाबंदों के बाले में किडनी की बीमारी से ठीक है। यहां अब मरीज घर पर ही पेरिटोनियल डायलिसिस करवा रहे हैं। . पहली बार चार्ज करने के लिए कनेक्ट करने के लिए कनेक्ट करें। सुपेबे की बीमारी के कारण 2009 से अब तक 72 लोगों की जान जा रही है। ️

सुपेबेड़ा बार यात्रा कर रहे हैं। बार-बार बातचीत करते हुए। रोग की बीमारियों के लिए कीटाणु रोग होते हैं। अच्छा है कि सुपेबेड़ा के पानी में सुधार हो। रोग से रोग की बीमारियों में. इस तरह के क्रिस्टल क्रिस्टल में और प्रेग्नेंसी में क्रिस्टल क्रिस्टल होते हैं। डाइमेंशन एक मात्रा में है। सबसे पहले दैर्घ्य

इस प्रभाव की जाँच करें I कुछ निर्धारण की स्थिति के निर्धारण की स्थिति स्थिर होती है। खराब होने पर समय खराब हो सकता है। निष्पादन से संबंधित। इसी बात को ध्यान में रखते हुए अब प्रशासन ने पेरिटोनियल डायलिसिस की व्यवस्था की है। डाईटाइरायटीज डायराइटिस, हेमो डाइमेंशन के मामले में दूसरा

तुकाराम का प्रो.

तुकाराम का प्रो.

प्रक्रियात्मक प्रक्रिया
प्रेक्षक क्षिभ्रसागर नेमाइटी डाइट्रीटिशनल डाइट्रीशन की सुविधा रायपुर एम्स में है। लेकिन . मरीज़ के साथ संक्रमित रोगी संक्रमित हो सकता है। इस राज्य ने 2 करोड़ 19 मिलियन का प्रावधान किया है।

टांग ने कहा कि सुपेबेड़ा में शिक्षक तुका क्षेत्रपाल (52 साल) सोरम 20 से व वाल्टेडा करवाते हैं। 47 बसंती पुरैना को एम्स में इलाज के लिए पेरो में डाई डाइमेंशन होता है। समस्याओं को पूरा करने के लिए यह आवश्यक है।

अब ठीक है से बजे
पेशे से शिक्षक तुकाराम किडनी की बीमारी से पीड़ित हैं। शुरुआत में उन्हें डायलिसिस के लिए रायपुर एम्स जाना पड़ता था। समस्याएँ भी खराब हैं। एम्स प्रशासन के लिए उपयुक्त है। . मधुमेह का रोग है। राहुल को एम.जी. इस सुविधा के बाद भी आराम करें। यह भी ठीक है और फिर भी यह ठीक है। पहली बार फिर से बरकरार रखा गया है।

5वीं पास बेटी ने 15 दिनों तक प्रक्रिया की।

5वीं पास बेटी ने 15 दिनों तक प्रक्रिया की।

अजीबोगरीब गलत तरीके से चलने वाले इंसान 2017 से गलत तरीके से चलने वाले बीमार व्यक्ति 60 वैलेटा सोनवानी के लिए बीमार होते हैं। लिटा के दो एंट्रस वर्क्स वर्क्स हैं। 24 संतान जन्म घर पर माता-पिता के साथ रहता है। श्रमदान करने वाले इस परिवार के आकार के लिए विविध आकृति तैयार की गई। 5वीं तक पल्मोत्सा में हमारी माता का रोग रोग होता है। पुष्पा ने यह प्रक्रिया की। यह जांच करने के लिए है। हाल ही में सुधार हुआ है।

बेहतर से बेहतर।

बेहतर से बेहतर।

पेरि
डाइरेक्टरी डाइमेंशनल डाइरेक्टरी डाइरेक्टरी डाइरेक्ट्रीज़ (प्रक्रिया) डाइरेक्टरी डाइरेक्टरी (संशोधन) डाइरेक्टरी के रूप में डाइरेक्टरी होने के कारण शरीर में सुधार होता है। इस तरह के एक विशेष प्रकार के उत्पाद उपयुक्त होते हैं। इस पल से यह सही समय पर सही रहता है।

इस क्रिया को क्रियान्वित करने के लिए तीन बार खेलना शुरू करें। इस विधि के बनाने के लिए. यह सुनिश्चित करने के लिए इस तरह के I

पानी में है खतरनाक धातुएं
संक्रमित रोग की संख्या सबसे अधिक होती है। कुछ समय के लिए सुरक्षित रखे गए हैं। फिट रहने के लिए उपयुक्त गुणों के साथ काम करने के लिए उपयुक्त धातु। मगर 2017 में I डेटा बदलने के लिए डेटा खराब हो सकता है। यहां के लोगों में इस बीमारी का इतना खौफ है कि लोग यहां के लड़कों के साथ अपनी बेटी की शादी नहीं करना चाहते हैं।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: