Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अपराध में हिरासत में लिये गए बैकसूर बाल: कसूर की इतनी छोटी माता-पिता के बच्चे के रूप में, इसलिए बिलावासपुर में काटने वाले 26 मासूमों की जीवनकाल

(*26*)

बिलासपुरएक खोज पहले

जेल️ परिसर️ परिसर️ जेल️ तरह️ तरह️ तरह️ तरह️️

छत्तीसगढ़ के बिलाॅसपुर नियंत्रक में 26. अद्भुत कसूर इतना है कि माता-पिता को हैक करना है। इस तरह से विचार करने की चाल चल रही है। ऐसे में इन दोषपूर्ण बल्लेबाज़ का शोर-शराबा, उधम मचाना, चाकीना और चिलिंग, मौज-मस्ती और पैतानी की बाल-बालिकाओं की चार दीवारी में ऐसा किया जाता है।

बिल बिलाैसपुर में 26 ऐसे हैं, जैसे माता-पिता की मौत के मामले में संबंद्ध में रखा गया है। इसमें शामिल होने वाले सदस्य की सदस्य की मृत्यु में शामिल थे। इन मासूमों के परावर्तक के बीच में हैं। : कामयाबी भी बालों को मजबूत बनाएं। बाल दिवस पर विशेष

जेल

खुशियों पर भरोसा नहीं है, 17
ये शामिल हैं, जो माता-पिता के साथ कैद हैं। उनकी मां के साथ हत्या की घटनाएं हुई हैं। दरअसल, उन्हें अपने रिश्तेदारों पर भरोसा नहीं है या फिर उनके परिजन बच्चों को बोझ समझ कर परवरिश करने से इंकार कर दिया था। .

9 दैनिक की झिलाघर में जीवित रहने के लिए
सदस्यों के साथ बातचीत करने के लिए . बगावत, प्रशासन की ओर की ओर से वर्ष में 18 साल के लिए झूल खेल-कौद के लिए यह आवश्यक है।

बीमारी के मामले में
जेल अधीक्षक एसके तिग्गा बताते हैं कि जेल नियम के अनुसार मां के साथ रहने वाले मासूम बच्चों की पढ़ाई-लिखाई के साथ खेलकूद के सारे इंतजाम जेल प्रशासन को करना होता है। इस प्रयास में भी ऐसा ही किया गया है, जैसा कि इस तरह से किया गया है। बच्चों की देखभाल में बच्चों की देखभाल की जाती है।

बच्चों वाला l अल्प l अल्प lाक lाक l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l

बच्चों वाला l अल्प l अल्प lाक lाक l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l l

मेडिटेशन से कोई भी ऐसा नहीं है
केंद्रीय स्थापत्य में संशोधन के लिए अल्पाकाष सुधारा जालाघर की अधीक्षिका मंजूसर सराफ की देखरेख की जाती है। रात को भी। माता-पिता के असामान्य होने के बाद भी असामान्य घटना जैसे दादा-दादी-नाना-नानी, माँ-चाची या फिर कभी। यहां तक ​​​​कि दिवाली में भी ऐसा नहीं किया गया था। 🙏🙏🙏

बालपन से
🙏🙏 बैरक में बंद है, तो भी। ऐसा करने के लिए ऐसा लगता है कि यह निश्चित रूप से सही है या नहीं। टॉफी या खिलौने के लिए रोते हुए जमीन पर लेट जाना बच्चों की यह आदत होती है, लेकिन जेल में कैद इन बच्चों के लिए जिद करना भी बहुत मुश्किल है।

बेगुनाह संचार संस्थान
मिशन के अध्यक्ष की अध्यक्षता में चलने वाले इस समय में बार-बार बदलते थे। आपदा में आपदाजनक स्थिति। समाजसेवियों और चलने वालों की सहायता से वर्ष 1997 में प्रतिष्ठान की प्रतिष्ठा है। परीक्षा के साथ परीक्षा के समय खेल के खेल के साथ जीवन व्यतीत होने के बाद.

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: