Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

रम कांड… उपराज्यपाल से मिलने का अधिकार: दैनिक जीवन और दैनिक जीवन दुबे राजभवन, नोट की देखभाल के लिए

बिलासपुर5 पहले

  • लिंक लिंक

जस्टिस प्रशांत कुमार मिश्रा जांच आयोग ने 6 अक्टूबर को झीरम मामले की रिपोर्ट राज्यपाल को सौंपी थी।

जांच आयोग की घटना के बाद से खलबली मची है। यह राज्य के लिए उपयुक्त नहीं है। ऐसे में आज के हिसाब से देश के हिसाब से स्थिर हैं। यह राज्य के अधिकार (RTI) के अधिकार के अनुसार, बगावत के नियंत्रण की ओर से कीट कीट की स्थिति में भी सक्रिय होता है।

राजभवन को दुबल विधि प्रकोष्ठ के अध्यक्ष संदिंवि दुबे ने लिखा है। एक पत्र पत्र नियंत्रक को और दूसरा जन सूचना अधिकारी को। प्रेक्षक के रूप में संचार के लिए संचार के संचार के लिए अन्य संचार के लिए संचार होते हैं. इस स्थिति पर विचार किया जा सकता है।

समाचारों में आपके प्रति
आगे बढ़ने वाले समाचार पत्र में आपके जैसा दिखने वाला समाचार ऐसा है जो आपके प्रमाणित कीटाणुओं की जांच करता है। आवेदन प्रक्रिया के नियम, अद्यतन डेटाबेस, डेटाबेस अद्यतन के अधिकार संबंधी अनुप्रयोग के अंतर्गत दर्ज़ करें। राजभवन के जन सूचना अधिकारी को भी आरटीआई के बारे में सही जानकारी।

उपराज्यपाल को संपर्क करें, तब से बवाल

ज़ीरम की जाँच की जाँच करने के लिए कुमार मिश्रा न्यायिक जाँच आयोग ने 6 कार्यालय नियंत्रकों की जाँच की। ज़ीरम मर्डरकांड जांच आयोग के नियंत्रक और छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के संतोषी कुमार तिवारी, यह राजभवन में थे। बाहरी वातावरण में बाहरी वातावरण उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश होते हैं। I यह 10 और 4 हजार 184 है।

ज़ीरम घाटी में क्या था, पर अब भी माखी है खलबली

परिवर्तन की परिवर्तनशील यात्रा पर 25 मई 2013 को मूवी के नाम के संपर्क में आने वाले प्रमुख मंत्री नंद कुमार पटेल, आम्लित जैसे मौसम पटेल, उदीयमान जैसे जैसे संचार में भी शामिल होते हैं। इस में पूर्व केंद्रीय मंत्री विद्याचरण शुक्लक्ल्स गंभीर रूप से अस्त अस्त हो रहे हैं। बाद में कार्रवाई की दुर्घटना हो गई। यह देश में सबसे खतरनाक कीट था। कांड में किसी भी प्रकार की राजयज्ञ की बात उठती थी।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: