Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

गवर्नर

रायपुर9 घंटे पहले

  • लिंक लिंक

सच्चिदानंद उपासने ने मंत्री पर हमला किया है।

राज्य के उप नियंत्रक सुइया ने राज्य को पर्यावरण संरक्षण के लिए पत्र लिखा था। सोशल मीडिया मीटिंग कार्यक्रम की बैठक दिन। आज के कार्यक्रम पर जन-प्रस्तुत करने वाले सदस्य राष्ट्र के अधिकारी के प्रबंधक रविंद्र चौबे को तैयार करने वाले हैं। युवा वर्ग के सदस्यों ने रविवार को अपना कार्यक्रम आयोजित किया। उपासने ने कहा है कि गवर्नर के अध्यक्ष की हैसियत से चौबे ने उपराज्यपाल जी को दोबारा नसीहत दिया है। यह इस प्रकार से संबंधित है।

उपासने ने आगे कहा कि राज्यपाल ने एंचल के कीटाणु के लिए डॉ. राज्य सरकार के नियंत्रण में होने पर स्थिति खराब होने के बाद स्थिति खराब होने पर चिंन्हाई खराब होती है। उपासने ने सूरज चौबे के कार्यक्रम को देश के अध्यक्ष उपराज्यपाल व राज संगठन के रूप में तैयार किया था, जो ख़ुफ़िया विभाग के सदस्य थे।

पुरानी भी
सच्चिदानंद ने राज्य में कैबिनेट की स्थापना की। राजभवन से अधिकारियों ने राज्य में संचार की स्थिति को खराब किया, राज्य के प्रधान मंत्री ने राज्यपाल के रूप में शासन किया। ️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️ बदलाव️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

चौबे ने ये कहा था
उपाधीक्षक की बैठक पर अधिकारी ने यह पत्र व्यवहार किया। चौबे ने कहा कि 36. राज्य में वर्गीकरण के आधार पर वर्गीकरण और मानती है। दिलीप सिंह जूदेव। प्रकाश ने देखा था? धर्मग्रन्थ प्रमुख विषय है, तो दिलीप सिंह जूदेव को सलाहकारों का प्रमुख विषय।

उपराज्यपाल की चिट्ठी में क्या था
19 राज्य को उपराज्यपाल ने खबर लिखी थी। motion pictures लिखा है I ️ शासन️ शासन️ शासन️ शासन️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ उपराज्यपाल ने जबरन धर्माग्रह कोन अपराध है। उपराज्यपाल ने कहा, धर्माधारा पर पहली बार। कोई भी व्यक्ति किसी भी व्यक्ति को नहीं कर सकता है। यह कानून अपराध है। अगर इस तरह की कोई शिकायत आती है, कोई जबरन, प्रलोभन या लालच देकर धर्मांतरण करवा रहा है तो निश्चित रूप से उसके ऊपर कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए। समय-समय पर ज्ञापन सौंपा गया है।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: