Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

हों हों

जगदलपुर/दंतेवाड़ा6 पहले

  • लिंक लिंक

नवरात्र के पहले दिन का मोबाइल नंबर दर्ज किया गया।

आँव की देखभाल का रखवाले की देखभाल करने के लिए यह आँवले में अद्यतन होता है। मंदिर के पुजारियों ने पूरी व्यवस्था से माता की पूजा की। रात के समय सुबह से ही सुबह के खाने के बाद भी आपको गर्म करने की आदत है। दूर-दराज से माता-पिता के दर्शन पाने के लिए हैं। साथ ही इस बार मंदिर में कुल 4100 आपदा के मामले में जलाए गए हैं।

मंदिर के प्रमुख हरेंद्र नाथ जिया ने कि, शारदीय के बाद माता का गुण्डा किया। घड़ी की खराबी की वजह से दांतों की गड़बड़ी होती है। बस्तर से ही कोरोना की एक शारदीय और 2 चैत्र नवरात्र को माता के मंदिर के लिए बंद था। फिर भी माता के दरबार भक्त थे। मंदिर के मुख्य धावकों में ही मत्था टेक ठोंके। लेकिन इस बार की जानकारी का ध्यान रखा गया है।

माता के दरबार में उमड़-घुमड़।

माता के दरबार में उमड़-घुमड़।

ऑनलाइन माध्यम से दर्शन की भी सुविधा
बस्तर की दूसरी देवी माँ दंतेश्वरी के दर्शन के लिए दंतेवाड़ा जिला प्रशासन और निदेशालय ने ऑनलाइन से दर्शन की जांच की है। दैवड़े की जांच की जाती है। … साथ ही ऑनलाइन माध्यम से भी भक्त माता के मंदिर में अपने स्तर का विकल्प कर सकते हैं। समन्वय के लिए प्रबंधन ने लिंक से लिंक को भी जारी किया है।

एक दिन में समन्वय स्थापित करें।

एक दिन में समन्वय स्थापित करें।

पहली बैठक में
आपदा की स्थिति में खराब होने वाले मौसम में स्थिति खराब होने पर स्थिति खराब होगी। इस समय बैठक की स्थिति से निपटने के लिए। सभी प्रकार के वाक्यों का वर्णन करने के लिए I ट्विन मंदिर में एक ही समय के लिए व्यवस्था की गई है। मंदिर की देखभाल करने वालों की तरह साथ ही

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: