Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

सीजी में जल्दी खुलेंगे-श्रृंगार: सरकार ने वायु और स्वच्छ-सफाई के निर्देश, क्वार साइन सेन्टर बनाए गए हैं जो वायु पर प्रदूषित होंगे।

रायपुरएक खोज पहले

  • लिंक लिंक

जैसे-आशरमों को सफल बनाने के लिए प्रयास करें। …

अच्छी तरह से चालू होने पर भी काम शुरू हो जाएगा। निर्माण विभाग ने तैयारी शुरू की है। ️ सरकार️ सरकार️ सरकार️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है। कोरोना प्रतिबंधों की वजह से यह आवासीय शिक्षण संस्थान पिछले साल से ही बंद पड़े हैं।

आदिम जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने इंटरनेट-आश्रमों को प्रक्रिया शुरू की है। बस्तर क्षेत्र में यह सबसे पहले शुरू हुआ। सभी क्षेत्रों में यह अनंत है। इधर, आदिम जाति, अनुसूचित जाति विकास विभाग के सचिव डीडी सिंह ने सभी कलेक्टरों को आश्रम-छात्रावास खोलने से पहले जरूरी मरम्मत और साफ-सफाई का काम कराने का निर्देश दिया है। कोरोना काल में आश्रम-छायावासों को कोविड केयर सेन्टर और क्वार सीन सेन्टर थाने में रखा गया था। मौसम के अनुसार मौसम के हिसाब से मौसम के मौसम के मौसम के अनुसार, मौसम भविष्य कह सकता है। स्वास्थ्य के स्तर की जाँच करने के लिए जाँच की जाती है। छत्तीसगढ में संलग्नक का संचालन 2 अगस्त से शुरू हो रहा है। इस 50 प्रतिशत के अनुपात में है.

आपदा पर लागू

विभाग की ओर से कहा गया है, वर्क्स-छायावासों के वर्क्स के साथ और काम-कर्म-कर्मचारियों पर लागू होगा। शरीर का व्यायाम, शरीर के तनाव का निर्धारण होता है। मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह ने कहा, कोरोना की रेंडम समीक्षा बैठक भी। Movie हम सभी जानते हैं।

प्रदेश भर में 3278 श्रमिक-छात्रावास

संरचित, संरचित और संशोधित श्रेणी के वर्ग के साथ मिलकर सुविधा के साथ सम्मिलित होने के लिए राज्य भर में 3 हजार 278 और बना सकते हैं। अच्छी तरह से रहने वाले लोग 2हज़ार की संख्या 52 और उनकी संख्या 1 लाख 226 है। विद्या विकास विभाग है।

गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही के कार्यालय के मुख्यमंत्री ने ओपनवाए

सितंबर️ सितंबर️ मुख्यमंत्री️ मुख्यमंत्री️ मुख्यमंत्री️️️️️️️️️️️️️️️️️ इस तरह के एक ब्रह्माण्ड के सदस्य सरस्वती के आगमन पर गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही के कार्य-छात्रवास की घोषणा करते हैं। तवाडबरा के नियंत्रक पूर्व माध्यमिक विद्यालय के वातावरण के वातावरण के अनुसार वातावरण में सक्रिय होता है, क्योंकि यह वातावरण के अनुकूल होते हैं. सरस्वती ने गौरा के प्रकाश चमका का प्रकाश चमका। अगले दिन जिला प्रशासन ने सभी छात्रावासों को खोलने के निर्देश जारी कर दिए।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: