Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

राज्य में सक्षम होने के लिए ‘बंद’:

रायपुर41 पहली

  • लिंक लिंक

किसान, कर्मचारी और कर्मचारी अलग-अलग प्रदर्शनी. कुछ पर चक्काजाम भी हुआ।

केंद्र सरकार के प्रतिबध्दता के मामले में कृषि के विपरीत संचार के मामले में भारत संचार में सक्रिय नहीं था। वामपंथी हानिकारक किसान और मजदूर के लिए सड़क पर उतरे। ️ यश ने सफलता प्राप्त की।

रायपुर में भारत का कोई भी विज्ञापन नहीं देख रहा है। कुछ चौराहा पर सुबह बजे जनसंगठन दर्ज किया गया। राजनांद गांव और कोरबा में प्रशिक्षण-मजदूरों ने प्रबंधन किया। बंद कर दिया गया है। दुर्ग, गरियाबंद, धमत्ती, कांकेर, बस्तर, बीजापुर, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, सरगुजा, सूरजपुर, ध्वनि और मरवाही में संवाद। बांकीमोंगरा-बिलासपुर मार्ग, अंबिकापुर-रायगढ़ मार्ग, सूर्यपुर-बनारस मार्ग और बलरामपुर-रांची मार्ग को रोक दिया गया था। चजाम में काम करने के लिए अन्य कार्य भी शामिल थे।

छत्तीसगढ़ किसान संघ के सदस्य सुदेश टीकम और छत्तीसगढ़ किसान सभा के अध्यक्ष संजय पराते का दावा है, प्रदेश में का गुट प्रभाव। बस्तर से सरगुजा तक मजदूर, किसान और आम आदमी सड़क पर उतरे। ️ वहीं️ वहीं️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ यह स्वच्छ इस प्रकार के राज्य हैं। किसान अब भी टाइप करते हैं। एक चरण और आगे चलने वाले पूर्वाभ्यास मंत्री और कुशल बृजमोहन अग्रवाल ने किसान चक्र को कहक कहवा से कहा।

सभाओं में भी उठे

गलत तरीके से बोलचाल की भाषाएं। ️ किसान प्रदूषण ने कहा, कृषि से खराब होने और कृषि से जुड़े वातावरण को खराब होने पर जलवायु का लाभ मिलता है। भौतिक विज्ञान भी बदल रहा है। कृषि पर्यावरण, पर्यावरण, पर्यावरण, पर्यावरण, प्रदूषण की पहचान, संविधान की 5वीं पीढ़ी और सामाजिक जैसे पर्यावरण को भी।

आराम से बिजली बंद,

नीब देश भर में भारत भर में क्लिक करें। एंबेसी ने भी टाइपिंग की घोषणा की। लेकिन कांग्रेस कार्यकर्ता किसानों के समर्थन में सड़क पर नहीं उतरे। , किसान महापंचायत की सफाई में धोखेबाज किसान कार्यकर्ता महासंघ भी बंद पर ध्यान केंद्रित करने वाले हैं।

सोशल मीडिया में

मध्य भूपेश बघेल ने सोशल मीडिया के क्षेत्र में टाइपिंग की। यह लिखा गया था, नगणित कितनों की जान, पत्रिका की पहचान करने के लिए/विशेष रूप से गणना, काल की कोर्ट में।। संचार भारत किसान भूपेश बघेल अपने किसान के साथ है।

खबरें और भी…

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: