Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

चरवाहों पर बैरी ‘गाज’: आकाशीय विद्युत से 41 बकरे-बकरों की मृत्यु, दो चरवाहे थे चराने; तापमान होने पर

महासमुंदएक खोज पहले

  • लिंक लिंक

65 ; पटवारी ने ही पंचनामा किया।

छत्तीसगढ के महासमुंद में मंगलवार की रात आकाशीय बिजली से 41 बकरे-बकरियों की मौत होती है। इनमें 6 बकरे। दो चरवाहे इसी दौरान बारिश होने (*41*) दोनों थोड़ी दूर शेड के नीचे नीचे खड़े हो गए। बकरे-बकरियां भी एक यमली के पेड़ थे। बैठक दो लाख का घाटा हुआ है। सभी के शरीरों को नष्ट कर दिया गया।

रीसेट करने के बाद खराब होने के बाद खत्म होने के बाद, आपको सुबह वापस आने के बाद सुबह उठने के बाद सुबह के समय बजरी 3.30 बजे बकरियां चरने के लिए चाहिए। स्वचालित रूप से प्रारंभ हो रहा है। बेक बकरा-बकरी यमली बाहरी (*41*) अचरवाहे भी। बिजली गरजी और पावर अलार्म बजने (*41*) वे

हरे रंग के फीके वाले शरीर
चरवाहे के मौसम के बारे में जानकारी मिली। ४१ बकरे-बकरों… उनके सूचना खर्च विभाग से पटवारी और थाना (*41*) प्राप्त किए गए। 65 ; पटवारी ने ही पंचनामा किया। अब वह विभाग को सौपेंगा। मृत बकरा-बकरा को श्मशान घाट में समाधि दी गई।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: