Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में प्रबंधन के प्रबंधन के लिए: गुर्रांति के मात्स्यिकी संस्थान के प्रबंधन के लिए, NTCA की स्थापना के बाद यह सुनिश्चित होगा; सूचना शीघ्र

रायपुरएक खोज पहले

  • लिंक लिंक

गुरु घासीदास राष्ट्रीय उद्यान को टाइगर रिजर्व बनाने की कवायद पिछले सात सालों से चल रही थी।

छत्तीसगढ में बेहतर ढंग से संरक्षित किया गया है। कंजर्वेशन को हराने के लिए (एनटीसीए) की कम से कम आँवले को हराने के लिए कम्बुर्द को कम करना चाहिए। जल्दबाजी में सूचना की सूचना। बागों के संतुलन के साथ चलने के लिए वृहद वृध्दि में बैठने के लिए

सरकार ने 2019 में प्रचार प्रसार किया। लेकिन, शुद्ध खाका भी था। 21 जून को बुलाए गए नियम के अनुसार, जिस जीव-जंतु की बैठक में उन्हें नियंत्रित किया जाता था। बैटरी 2 हजार 829 क्लास को पूरा किया गया। एकीकृत कोर क्षेत्र में 2 हजार ४९ कक्षा के पर्यावरण में ७८० क्लास के वनों को पार किया जाएगा। बोर्ड की पोस्ट के बाद वन विभाग ने एनटीसीए को सुरक्षित किया। अब एनटीसीए की स्थापना के बाद ऐसा किया गया। वन विभाग के अधिकारियों ने एक सूचना के प्रसारण के बाद संचार किया।

वृहद् गुरु गेंदबाज़ों के संतुलन के कारण बिगड़ी स्थिति खराब हो गई।

वृहद् गुरु गेंदबाज़ों के संतुलन के कारण बिगड़ी स्थिति खराब हो गई।

छत्तीसगढ़ में पहली बार
छत्तीसगढ़ में सात बजे तक. उददती सीतांदी, इण्डियनावती सीतानदी, इण्डियनावती जल, दन्तेवारा और मंगली इम्प्लीमेंट्री। प्रोप्रॉड ने कवर के लिए भोरमदेव को य सरकार ने 2019 में समीक्षा की।

टाइगर

  • .बाघों के बचाव के लिए तेज गति से प्रयास करें। इसे एनटीसीए से शुरू ।
  • बाघों के अन्य जीवप्राणियों के रक्षण, बैटरी के लिए उपयुक्त और चलने योग्य होते हैं।
  • एनटीसीए वर्ष में वर्षों में काम होगा।
  • छत्तीसगढ़ के राज्य में रहने के लिए अंतरिक्ष में संचार का एक और संचार .

यह बेहतर है
गुरु घावी परदास पार्क के पास सोनहतपुर सोनहत पर की दूरी है। 2001 से मध्य मध्य क्षेत्र का खेल पार्क। पार्क के अंदर हसदेव नदी है और गोपथ नदी का उद्गम है। ऐशनल की शृंखला केलाइन साल, साजा, धावडा, कुसुम, तणेंदू के और वनौषधियों से बाघ, नारदुआ, गौर, चिंकारा का प्राकृतिक निवास है। 35 , गाड़, खारवार व अगरिया जातियां

ये पर्यटन स्थल हैं
खेकड़ा माडा हलटॉप, गांगीनी माता की फसल, नीलकंठ जलप्रपातेरा, आनंदपुर, बीजाधुर, सिद्धबाबा की फसल, चोम जलप्रपात, कोहरापाट, छतोड़ा की फसल के मुख्य उपचार स्थल हैं।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: