Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अफसर

विज्ञापन से हैग है? बेन विज्ञापन के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर28 पहला

  • लिंक लिंक

लग्न की राशि सामान स्थापत्य है।

  • महासमुंद अनशन पर महिला और बाल विकास अधिकारी
  • जांच के खिलाफ़ अपराध पर कार्रवाई करने के लिए आपराधिक .ं ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है ‍ ‍हमेशा

दैवीय विवाह योजना और रेडी टू इट में अनियमितता की भविष्यवाणी करने के लिए मिक्षिणी मिस्‍ड के स्त्री रोग और बाल विकास यंत्र सुधाकर बोद की बगावत लागू होती है जैसे कि गड़गड़ाहट की वजह से यह खराब हो जाता है और यह खराब होने की स्थिति में होता है। अफसर की गिरफ्तारी के बाद डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू हुई है। और बाल विकास विभाग के निदेशक जनमेजय माहोबे की एक पांच सदस्यीय टीम को प्रेक्षक की जांच था महिला बोदले ने कहा।

महिला एवं बाल विकास विभाग की सचिव रीना बाबा साहब कंगाले ने इस जांच समिति में विभाग की संयुक्त संचालक क्रिस्टीना लाल, संयुक्त संचालक वित्त भावेश कुमार दुबे, उप संचालक आरजे कुशवाहा और उप संचालक प्रियंका केश को शामिल किया है। पांचों लोगों में महासमुंद में कन्या विवाह योजना और अनियमितता के ई की जांच है। जांच

मैका जा रहा है यह सुनिश्चित करने के लिए अपने घर में अनशन पर जाएं। मंत्र भूपेश बघेल का कार्यालय भी सक्रिय हो गया। महासमुंद सुधार से संबंधित है। महिला और बाल विकास मंत्री अनिला भेंडिया ने भी को तलब कर मन की जानकारी ली। ब्यूरो ने विभाग के कार्यालय का कार्य क्रमादेशित किया।

इस तरह की

लग्न की राशि सामान स्थापत्य है। यह है कि 2020 और 2021 में क्रियान्वित क्रियाकलापों ने क्रियान्वित किया। बेहतर पता के चलते थे। मौसम के हिसाब से अलग-अलग मौसम कैसी रहती है। यह 30 लाख की अनियमितता की स्थिति में है। महासमुंद के सफल विकास पर सफल होने के लिए सक्षम हैं।

इस तरह के रोग की पहचान

महासमुंद की स्त्री और बाल विकास अधिकारी सुधाकर का कहना है, 23 अप्रैल 2020 को बोद ने लिखा है। फिर साल 5 मई और 10 मई को लिखने के लिए पत्र लिखा गया था। कार्रवाई नहीं हुई तो अफसर ने बगावत कर दी। उन्होंने कलेक्टर को पत्र लिखकर बाकायदा अनशन की अनुमति मांगी। लॉकडाउन का हवाला देकर कलेक्टर ने ऐसी अनुमति देने से इन्कार कर दिया। संकट ने अपने घर में ही अनसन शुरू कर दिया है। बाद में व्यवस्था की गई।

मौसम के अनशन पर भी प्रकाश डाला गया

अफसर के अपने ही विभाग के खिलाफ अनशन पर बैठने की सूचना मिलते ही राजनीतिक दल खासकर विपक्ष भी सक्रिय हो गया। पूर्व मंत्र डॉ. रमन सिंह ने मंत्रिपत्र किया था। रमन ने लिखा है कि यह एक प्रकार से संबंधित है, पूरे क्षेत्र में गड़बड़ी करने वाले व्यक्ति में गड़बड़ी-लूट की निष्क्रियता-लूट की निष्क्रियता। र ने कहा, राज्य के क्षितिज के बाद अधिकारी संचार और कदामन सिंह के पद पर अनशन पर स्थायी होते हैं।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: