Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

मनरेगा में परिवर्तन: छत्तीसगढ़ में SC-ST को मिल पा ले श्रम, ने कहा-केंद्र सरकार ने नए नए बदलाव के साथ

विज्ञापन से हैग है? बेन विज्ञापन के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर२ घंटे पहले

  • लिंक लिंक

महात्मा गांधी गांधी राष्ट्रीय आवास योजना (MREGA) छत्तीसगढ़ में संरचना और जाति के वर्ग के लिए काम करने वाले मजदूर मिल पा रहे हैं। फील के साथ चलने वाले क्लास के खेल का लोड हो रहा है। सरकार अब पंचायती विकास विभाग ने केंद्रीय विकास पत्र को लिखा है, जो समस्या हल करने का संकल्प है।

विकास विभाग के विकास विभाग का कहना है, मनरेगा से एक खाता है एनईएफएमएस के पंचायती विकास कार्यक्रम। केंद्र सरकार ने एक आदेश जारी किया है 1 अप्रैल 2021 से श्रम के लिए सामान्य, संरचित और संरचित के लिए अलग-अलग अलग-अलग अलग-अलग बनाया गया है। बाद में राज्य सरकार ने इन दो अलग-अलग खातों को अलग किया। अब बैंकों का कहना है कि नए खाते की वजह से अभी पीएफएमएस मैपिंग का काम चल रहा है। इसलिए इस मद में राशि प्राप्त होने के बाद भी इसे प्राप्त किया गया था। बैंक ने बताया है कि मैपिंग का कार्य 14 मई तक पूरा कर लिया जाएगा। सरकारी कामकाज में व्यस्त रहने के बाद भी श्रमिक काम में शामिल हो गए।

127 लाख

संविधान के लिए तैयार हैं 5 मई को 5 करोड़ 26 लाख करोड़ रुपये। ट्विस्ट स्ट्रक्चर्ड क्लास के लिए 11 मई 2021 को 122 करोड़ 9 लाख लोग की आय। लेकिन यह पैसा मनरेगा में मिलाने वाला है। ट्विल 26 अप्रैल को सामान्य क्लास के लिए 241 करोड़ 80 लाख में से बड़े डिस्प्ले का गेम जारी किया गया है।

केंद्र सरकार के स्तर पर भी देरी की बात

पंचायत और ग्रामीण विकास विभाग के सदस्य के रूप में पर्यावरण के विकास के लिए ऐसा किया जाता है। उनके द्वारा बताया गया कि मजदूरी भुगतान की प्रक्रिया में वर्गवार भुगतान संबधी परिवर्तन के कारण ग्रामीण विकास मंत्रालय स्तर पर राज्यों के लिए नामित डीडीओ को एक दिन में ही बहुत अधिक एफटीओ पर डिजिटल हस्ताक्षर करने पड़ रहे हैं। यह सबसे ज्यादा काम करता है, इसलिए यह सबसे अधिक समय है।

खबरें और भी…

.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: