Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

ईद पर छाया मंम: रोजा रखकर 10 साल का जैद मांगा करता था कोरोना संकट खत्म होने की दुआ, छत पर हाइटेंशन तार की चपेट में आने से इस मासूम की मौत

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर24 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

चित्र हादसे में जान गंवाने वाले 10 साल के बच्चे जैद की है।

10 साल की उम्र में स्कूल बंद, दोस्तों के साथ खेलना बंद, लॉकडाउन और फेस लगाकर ठहरने की पाबंदियों को देख रहे जैद ने रोजा रखा था। घर के बड़ों के साथ हर रोज छत पर रात के वक्त कोरोना महामारी खत्म होने और इंसानों की इस दुनिया में फिर से खुशहाली कायम करने की दुआ मांगा करता था। मंगलवार की सुबह इस नन्हीं सी जान को एक हादसे ने छीन लिया। जिस छत पर घर के बड़ों के साथ जैद रमजान के इस पाक महीने में दुआ मांगा करता था। उसी छत के पास लगे हाइटेंशन तारों में दौड़ रही बिजली जैद की मौत का कारण बनीं।

इसी छत पर बच्चा तार की चपेट में आ गया था।  रायपुर रायपुर।

इसी छत पर बच्चा तार की चपेट में आ गया था। रायपुर रायपुर।

मंगलवार की सुबह सेहरी के जब तक 10 साल का जैद छत पर गया था। बेहद करीब से गुजरी तारों के संपर्क में आने की वजह से उसे तेज करंट लगा। बच्चा झुलस गया था, उसके फौरन निकटतम अस्पताल ले जा गया था लेकिन वे बच न गए। शाम के वक्त शहर के बैरन बाजार कब्रिस्तान में उसका अंतिम संस्कार किया गया। परिवार जो दो दिन बाद ईद की तैयारियों को जुटा था, वहाँ मातम का माहौल है। पूरे मुहल्ले में इस हादसे से काफी लोग गमजादा हैं।

6 साल की उम्र से रख रहा था रोज़ा
ईद की खुशी बड़ों से ज्यादा बच्चों में होती है। जैद इस मौके पर बेहद खुश रहता था। इस परिवार के पड़ोस में रहने वाले वालो सामाजिक कार्यकर्ता रजा संजरी ने बताया कि जैद के पिता इमरान नियाज़ी के तीन बच्चे हैं। 15 साल का रेहान सबसे छोटा 6 साल उमर और जैद उनका मंज़ला बेटा था। जैद 6 साल की उम्र से रोजे रख रहा था। मंगलवार की सुबह सेहरी के बाद फजर की नमाज (सुबह की नमाज) पढ़कर छत पर चली गई थी तभी ये हादसा हो गया था।

हर रात मांगता में कोरोना से सलामती की दुआ थी
राज संजरी ने बताया कि हर रोज रात 10 बजे जैद के घर के बड़ों के साथ छत पर आती थी। कोरोना वैयरस से निज़ात दिलाने के लिए अज़ान दिया करता था। बच्चा अपने 28 रोजे पूरे कर चुका था। ये परिवार संजय नगर की ख्वाज़ा गली में रहता है। जैद के पिता प्रॉपर्टी डीलिंग का काम-काज करते हैं। अब इलाके के सभी लोग इस परिवार को ये गम सहने की ताकम मिले और बच्चे की आत्मा की शांति की प्रार्थना कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: