Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

वैक्सीन पर जीएसटी से भोर कांग्रेस: ​​छत्तीसगढ़ कांग्रेस की बैठक में पारित निंदा प्रस्ताव, खाद के मूल्य में वृद्धि को किसानों की तकलीफ बढ़ाने वाला बताया गया

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

प्रदेश कांग्रेस की कक्षा बैठक में सभी पदाधिकारी अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए। इस दौरान संगठन के मुद्दों पर भी चर्चा हुई।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया की मौजूदगी में छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी की आज की बैठक की बैठक हुई। इसमें कोरोनासिस के बीच वैक्सीन, दवाओं और चिकित्सा उपकरणों पर GST लेने के लिए केंद्र सरकार की निंदा की गई। दोनों ने उर्वरकों के मूल्य में वृद्धि को भी Whanaend के लिए तक दोषपूर्ण केंद्र सरकार की आलोचना की।

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरक ने केंद्र सरकार के खिलाफ दो निंदा प्रस्ताव रखा। एक प्रस्ताव में उर्वरकों के दामों में की 50 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि को गलत बताया गया था। मरने वालों ने कहा कि कोरोना संकट से घिरे होने के बाद भी राज्य सरकार एक तरफ तो किसान न्याय योजना की किश्त देने जा रही है।) केंद्र सरकार के किसानों के लिए जरूरी उर्वरकों की कीमत 50 प्रतिशत तक बढ़ रही है। यह अत्यंत निंदनीय है।

दूसरे प्रस्ताव में कोरोना की वैक्सीन, चिकित्सा उपकरण और दवाओं पर 5 से 12 प्रतिशत की दर से जीएसटी वसूली की आलोचना की गई। मरने वालों ने कहा कि आपदा के दौर में हो रही हो में भी केंद्र सरकार कर वसूलने से नहीं चूक रही है। प्रदेश अध्यक्ष के दोनों निंदा प्रस्तावों का दूसरे लोगों ने समर्थन किया। बैठक में दिव्य प्रमुख करुणा शुक्ला, दीपक कर्मा आदि को श्रद्धांजलि दी गई। इस दौरान प्रदेश प्रभारी डाॅ। चंदन यादव, उपाध्यक्ष गिरीश देवांगन, अटल श्रीवास्तव, कोषाध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, प्रभारी महामंत्री संगठन चंद्रशेखर शुक्ला, संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी, जयन्ती बिस्सा आदि मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने टीकाकरण नीति पर दी सफाई
बैठक के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना की रोकथाम और चिकित्सा के लिए किए उपाधें की जानकारी दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने 18 + के लोगों के टीकाकरण की घोषणा तो कर दी, लेकिन प्रदेश को वैक्सीन कैसे मिलेगी? इसका कोई कार्ययोजना ही नहीं बनाई गई है। एक मई को दोपहर 1 बजे 1.5 लाख वैक्सीन दी गई। पर्याप्त वैक्सीन नहीं होने के कारण हमने आर्केडबो को प्राथमिकता दी। इसके खिलाफ भी दुष्प्रचार किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्याप्त वैक्सीन मिलने पर सभी को मुफ्त वैक्सीन लगाने का हमारा निश्चय फर्म है।

“मेरा बो कोरोना मुक्त” अभियान का प्रस्ताव
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने “मेरा बूम कोरोना मुक्त” नाम से अभियान हाथ में लेने का प्रस्ताव रखा। प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकडे ने इसे स्वीकार कर लिया। इस अभियान के तहत बो स्तर के कार्यकर्ताओं को कोरोना जागरुकता फैलाना है। टीकाकरण के लिए लोगों को प्रेरित करना है और लोगों की जांच और दवा लेने में सहयोग करना है। अभियान की पूरी रूपरेखा बनाकर जल्दी ही जारी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: