Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

रियल लाइफ के हर: भिलाई के मोहम्मद शाहिद ने डोनेट किया प्लॉ, 15 दिन में दूसरी बार बचाई मरीज की जान

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भिलाई16 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

भिलाई के यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिद ने दूसरी बार प्लॉट डोनेट किया है।

छत्तीसगढ़ के भिलाई के रहने वाले यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिद ने फिर अपना प्लान डोनेट किया है। 15 दिनो में लगातार दूसरे बार प्लॉट डोनेट कर कोरोना मरीज की जान बचाई है। इससे पहले वह दिल्ली जाना भी जीवन बचा चुका है। शाहिद के पास रात को रायपुर से फोन आया कि एक कोरोना मरीज को प्लॉट चाहिए। उसके बाद उन्होंने तुरंत इस नेक काम को किया है।
समाज के असली
मोहम्मद शाहिद जैसे लोग की इस समाज के असली हूर है, जो किसी की जिंदगी बचाने के लिए हमेशा तैयार रहता है। मोहम्मद शाहिद के इस काम की सराहना पूरे देश-प्रदेश में हो रही है। यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास ने ट्वीट करके शाहिद को बधाई दी है। शाहिद का फोटो और वीडियोस शेयर करते हुए लिखा है, हमारे युवा साथी मोहम्मद शाहिद ने 15 दिनों में दूसरी बार प्लॉन दान करके एक ओर जान बचाने का प्रयास किया है। पिछली बार दिल्ली आकर प्लॉट दिया गया था। इस बार छत्तीसगढ़ में ये फर्ज प्लेया है। राहुल गांधी जी के साथ कर्मठ सिपाहियों की बदौलत #SOSIYC अब तक हजारों जान बचाने में कामिया रही है।

यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ट्विट कर दी शाबाशी।

यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ट्विट कर दी शाबाशी।

दिल्ली में प्लॉट डोनेट कर चुके हैं शाहिद
यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव बीते दिनों दिल्ली गो प्लॉट किए गए थे। यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के बुलावे पर शाहिद अपने दोस्त संदीप वोरा के साथ भिलाई से दिल्ली तक का सफर किया। जिसके बाद पूरे देश-प्रदेश में शाहिद की खूब तारीफ व जीत मिली थी।
योजना डोनेट करने की अपील
मोहम्मद शाहिद ने लोगो से अपील की है, कि यूथ कांग्रेस की ओर से देशभर में SOSIYC कैंपेन चलाया जा रहा है। इसके माध्यम से लोगो को दवाईयां, आक्सीजन, बेड के साथ-साथ प्लोस देने की भी सहायता की जा रही है। उन्होने कहा है कि एक व्यक्ति तीन बार प्लॉट डोनेट कर सकता है, जो कोरोना से जंग जीतने के बाद लोगो को अपना प्लॉट डोनेट करके मदद करें। एंटीबाडी 6 महीने तक व्यक्ति में रहती है। वह तीन बार अपना प्लान डोनेट कर सकता है। हम सभी यूथ कार्याकर्ताओं और युवा लोगो से अपील करते हैं, जिसमें अधिक से अधिक लोगो का सहयोग करें। और प्लॉनेट करने से किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती है।
कौन कर सकता है प्लॉंग डोनेट
जानकारी के मुताबिक कोरोना के मामले में, एक प्लोस देने वाले को तकरीबन 28 दिनों में संक्रमण से उबर जाना चाहिए, और 18 से 60 साल की उम्र के अंदर ही होना चाहिए। डोनर का वजन कम से कम 50 किलोग्राम होना चाहिए, और उस समय वह किसी भी संक्रामक या पुरानी बीमारियों से पीड़ित नहीं होना चाहिए। इसके लिए केंद्र सरकार ने अपनी गाइडलाइन भी जारी की है।
कौन नहीं कर सकता है प्लॉनेट डोनेट

  • जिसका वजन 50 कलो से कम हो या अंडरवेट हो।
  • व्को डायबिटीज हो।
  • जो महिला गर्भवती हो।
  • जिसका ब्लड प्रेशर बेकाबू हो।
  • कौन सा कैंसर हो
  • जिसे फेफड़े / रीढ़ या दिल की गंभीर बीमारी हो।

कोरोना के मरीज को कब चाहा जाता है

  • यदि रोगी को कश्य मेड मेडिकल एएक्सपर्ट ने इसकी सलाह दी हो।
  • मरीज के SA में पल्लाज्मा का शतर कम हो।
  • अगर मरीज की हालत वाकई खराब है और उसके बल्ड ग्रुप का डोनर मौजूद है

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: