Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

सांसों के सिपाही: भिलाई में जीवन बचाने की बन रही संजीवनी, स्टील प्लांट के कर्मी 24 घंटे कर रहे काम, हमने ग्राउंड जीरो पर काम करने वाले राजकुमारियों से उनके अनुभवों और काम को जाना।

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भिलाई9 मिनट पहले

  • (*24*)कॉपी लिस्ट

भिलाई में सांसो के सिपाही दिन रात ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए सैनिक की तरह काम कर रहे है। जिससे सांसों की ढोर थमे नहीं।

छत्तीसगढ़ का भिलाई स्टील प्लांट (बीएसपी) लोगों को सांसों की संजीवनी देने का काम रहा है। लेकिन इस संजीवनी को बनाने वाले राजकुमारियों के बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं कि आखिर वो किस तरह से दिन-रात लोगों की सांसे चलती रहती हैं, इसके लिए वो काम कर रहे हैं। हम ऐसे ही मार्टों के अनुभवों को आपके के साथ साझा कर रहे हैं। और यह भी जाने वाला है कि आखिरकार यहां से कोरोना मरीजों के इलाज के लिए लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) हर दिन छत्तीसगढ़ सहित अन्य प्रदेशों में सप्लाई की जा रही है।
बीएसपी में खुद के द्वारा परिचालन किए जाने वाले ऑक्सीजन प्लांट और प्रैक्सएयर कंपनी द्वारा संचालित ऑक्सीजन ऑक्सीजन प्लांट में लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन की कुल उत्पादन क्षमता 265 मिलियन टन थी, जिसे अब 470 टन टन सप्लाई छत्तीसगढ़ सहित अन्य राज्यों की जा जा रही है।
राष्ट्र सेवा मिसल बनी
बीएसपी में ऑक्सीजन प्लांट में काम करने वाले कर्मी दिन रात काम करने का ऐसा जुनून, बस सेना में ही देखने को मिलता है। लेकिन जहां बीएसपी ऑक्सीजन आपूर्ति में लगे कार्मी भी सैनिकों जैसे जोश व जज्बे से भरे हुए हैं। मुश्किल की इस घड़ी में, सांसों के ये सिपाही, घड़ी देखना भूल गया है।

ऑक्सीजन की संजीवनी बनाने में इतने व्यस्त हो गए कि घड़ी देखना तक भूल गया।

ऑक्सीजन की संजीवनी बनाने में इतने व्यस्त हो गए कि घड़ी देखना तक भूल गया।

स्टील अथॉरिटी आफ इंडिया लिमिटेड (सेल) व बीएसपी की टीम
बीएसपी की टीम कोरोना मरीजों के जीवन बचाने में संजीवनी का काम कर रही है। मेडिकल ऑक्सीजन की निरन्तर आपूर्ति से जहां छत्तीसगढ़ के अस्पतालों में को विभाजित के गंभीर रोगियों का जीवन लगभग जा रहा है, वहीं छत्तीसगढ़ के साथ-साथ निर्देशित देश के विभिन्न राज्यों को विशेषकर महाराष्ट्र के मध्यप्रदेश के लिए भी लिक्विड डिवाइन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। । आज देश की एक महत्वपूर्ण सार्वजनिक इकाई देश में जीवन बचाने की मुहिम में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। हमने बीएसपी के ऑक्सीजन प्लांट में दिन रात काम करने वाले अधिकारियों और कर्मचारियों से बातचीत की। उनके अनुभवों को जानने की कोशिश की है।

भिलाई स्टील प्लांट ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए सैनिक की तरह काम हो रहा है

भिलाई इस्पात प्लांट ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए सैनिक की तरह काम हो रहा है

जान बचाने का सूकून हमारे पास है-प्रकाश कुमार
ऑक्सीजन प्लांट में कार्यरत प्रकाश कुमार कहते हैं कि हमें दिन रात काम करने में थकान नहीं होती है। हमें इट्री है कि हमारे काम से आज देश में लोगों की जान बचाई जा रही है। हमारी टीम के सदस्य योगेश्वर, मोनू कुमार, ला, पापाराव, अनिल और अन्य कर्मा पूरेप्रिंटन से अपना काम कर रहे हैं।
ऑक्सीजन आपूर्ति देश सेवा है-हिरेन्द्र चैहान
बीएसपी में काम करने वाले हिरेन्द्र चैहान कहते हैं कि हम बिना वीकली आंफट निरंतर काम कर रहे हैं। संकट के समय आज मेडिकल ऑक्सीजन की निरन्तर आपूर्ति सुनिश्चित करना, यह एक राष्ट्रसेवा है।

बीएसपी में ऑक्सीजन आपूर्ति करने वाले करमी अपना वीकली आंफ तक लेना भूल गया है।

बीएसपी में ऑक्सीजन आपूर्ति करने वाले कर्मी अपना वीकली आंफ तक लेना भूल गए हैं।

जीवन रक्षा पुण्य कार्य है-ट्राली चालक रोहित वर्मा
इसी टीम के एक और समर्पित सदस्य ट्राली चालक रोहित वर्मा बताते हैं कि आज हम लोग सब निरन्तर मेहनत कर रहे हैं। अगर हमारी मेहनत से किसी की जान बच जाए तो इससे बड़ा पुण्य कार्य कुछ नहीं है।

ट्राली के माध्यम से ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति कर करमी रही है।

ट्राली के माध्यम से ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति कर करमी रही है।

खाने-पीने की चिंता खत्म करने के समय फोकस-मोहन राव
मोहन राव कहते हैं कि इस वक्त जहां हम अपने खाने-पीने की चिंता को छोड़कर सिर्फ ऑक्सीजन ऑक्सीजन के सप्लाई को बनाये रखने में पूरा ध्यान लगा रहे हैं।
हर काम देश के नाम- एस.बी.सिंह
ऑक्सीजन प्लांट के वरिष्ठ कार्मी एस बी सिंह कहते हैं कि आज हम अपने देश के काम आ रहे हैं। जिस प्रकार सैनिक अपने देश की रक्षा के लिए तत्पर होता है, वैसी ही भावना आज हमारी टीम में है।
जज्बा और जुनून को सलाम-मोहम्मद नदीम खान
ऑक्सीजन प्लांट के महाप्रबंधक मोहम्मद नदीम खान ने बताया कि हम अपने संयंत्र को 24 घंटे पूरी क्षमता से चले जा रहे हैं। हमारी टीम ने घड़ी देखने बंद कर दिया है। उनमें देश के लिए कुछ करने का जज्बा और जुनून दिखाई देता है। आज मेडिकल ऑक्सीजन की बढ़ती मांगों को उनके जज्बे से ही पूरा किया जा रहा है। अप्रैल महीने में हमने जहां बीपीपी के पंडित जवाहर लाल नेहरू चिकित्सालय (जेएलएन) को 5845 मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की है। उसी जिला प्रशासन को शासकीय अस्पतालों के लिए इसी महीने 1550 मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर की मुफ्त आपूर्ति की गई है।

निरंतर ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है।

निरंतर ऑक्सीजन का उत्पादन किया जा रहा है।

प्रैक्सएयर ने भी बढ़ाई उत्पादन क्षमता
इधर प्लांट परिसर में स्थित प्रैक्सेयर कंपनी ने भी एलएमओ की उत्पादन क्षमता को बढ़ा दिया है। कोविड -19 के पूर्व 240 मिलियन टन एमएलओ का उत्पादन किया जा रहा था, वहीं वर्तमान में उसे बढ़ाकर 370 मिलियन टन तक उत्पादन लिया जा रहा है। दोनों प्लांट के उत्पादन को मिलाकर 470 मिलियन टन एलएमओ की सप्लाई प्रतिदिन की जा रही है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: