Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

नेता जी की गुंडई: बिना वाहन पास के होने वाली कार को चेकपोस्ट पर रोका तो भड़के; कर्मचारियों को गाली देते हुए कहा- पता हो मैं कौन हूं, पूर्व सरपंच यादव

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • छत्तीसगढ
  • कोरबा में नेटा जी को गाली देते नेताजी | छत्तीसगढ़ नेताजी कोरबा में चेकपोस्ट पर कोविद 19 ड्यूटी के दौरान वाहन पास मांगने वाले कर्मचारियों को गाली देते हैं

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरबा33 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ के कोरबा में वाहन पास नहीं होने पर कार सवारों ने जिस मरीज को बताया था, उसने उतार कर गालियां लगाईं।

कोरोना संक्रमण के बीच जब कर्मचारी, पुलिसकर्मी और डॉक्टर अपनी जान जोखिम में डालकर ड्यूटी कर रहे हैं, तब नेता जी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए गुंडई कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ के कोरबा में चेकपोस्ट पर बिना वाहन पास के होने वाली कार को ड्यूटी पर तैनात कर्मचारी ने रोका तो नेता जी उस पर भड़क गए। कार से उतर कर गालियां देनी शुरू कर दी। कहा कि जान हो मैं कौन हूं? पूर्व सरपंच यादव वर्तमान घटना का वीडियो अब वायरल है।

संक्रमण के बढ़ते दायरे को देखते हुए प्रदेश में लॉकडाउन है। ऐसे में सरकार की ओर से एक जिले से दूसरे में जाने के लिए वाहन पास बनवाना अनिवार्य किया गया है। इसकी जांच के लिए चेकपोस्ट भी बनाए गए हैं। ऐसे ही एक चेकपोस्ट बलौदा-उरगा मार्ग पर कोरबा के पंतोरा में बिलासपुर और जांजगीर चांपा सीमा पर बनाया गया है। यहां हर आने-जाने वाले वाहनों चालकों से पूछताछ के बाद ही उन्हें जिले में प्रवेश दिया जा रहा है।

कर्मचारियों ने उन्हें लिखित अनुमति वाहन पास मांगा।  उनके पास होने से इनकार किया और फिर गाड़ी से उतर कर कर्मचारियों को धौंस दिखाना शुरू कर दिया।

कर्मचारियों ने उन्हें लिखित अनुमति वाहन पास मांगा। उनके पास होने से इनकार किया और फिर गाड़ी से उतर कर कर्मचारियों को धौंस दिखाना शुरू कर दिया।

पहले डॉ की पर्ची दिखाई, जब पास मांगा तो धौंस दिखाने लगे
पंतोरा में बनाई गई इस चेकपोस्ट पर बुधवार दोपहर करीब 3 बजे अन्य वाहनों के साथ एक कार भी आई। चेकपोस्ट के कर्मचारियों ने कार को रोका तो अंदर दो लोग बैठे थे। उन्होंने डॉ का पर्चा दिखाया और मरीज की जांच कराकर वापस आने की बात कही। इस पर कर्मचारियों ने उन्हें लिखित अनुमति वाहन मांगा है। उन्होंने होने से इनकार किया और फिर गाड़ी से उतर कर कर्मचारियों को धौंस दिखाना शुरू कर दिया।

जिसे मरीज ने बताया, वह भी कार से उतर कर उसे देने लगी
उन्होंने कर्मचारियों से कहा कि मुझे नहीं पता, मैं कौन हूं? यहीं का आदमी हूँ। मैं उरगा का पूर्व सरपंच यादव हूं। इसके बाद गालियां देनी शुरू कर दी। इस पर अन्य कर्मचारियों ने बचाव किया तो किस मरीज ने बताया, वह व्यक्ति भी कार से उतर आया और गालियां देनी शुरू कर दी। कर्मचारियों के दबाव बना रहे थे कि पुलिसकर्मी आ गए। इसके बाद वहां कांस्टेबल से एसडीएम की बात कराई गई, तब उन्हें जाने दिया गया।

इस हंगामे और विवाद के कारण 20 मिनट तक जाम लगा रहा
इस पूरे हंगामे के दौरान दूसरी ओर से सड़क पर वाहनों की लाइन लग गई। लगभग 20 मिनट तक जाम की स्थिति रही। इस दौरान दवाईयों में एक वाहन भी निकल रहा था। जब उसके ड्राइवर ने हंगामा कर रहे कार सवारों से साइड देने को कहा तो उन्होंने उस पर भी भड़क गए। आरोप है कि गालियां देते हुए उसे थप्पड़ भी मार दिया। हालांकि, नेताजी के रसूख के चलते उनके ऊपर कोई कार्रवाई भी नहीं की गई है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: