Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

बॉलीवुड को छत्तीसगढ़ का न्यौता: प्रदेश में फिल्म शूटिंग की अनुमति देने के लिए कलेक्टर द्वारा अधिकृत, लोक सेवा कानून के तहत 30 दिन में एनओसी पर भरोसा

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर(*30*)एक घंटा पहले(*30*)

  • कॉपी लिस्ट(*30*)

छत्तीसगढ़ क्षेत्रीय सिनेमा का महत्वपूर्ण गढ़ है। इसके अलावा कई बड़े फिल्मकार भी यहां के प्राकृतिक लोकेशन पर शूटिंग के अवसर तलाशते रहते हैं।(*30*)

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन की दिक्कतों के बीच सिनेमा उद्योग के लिए एक राहत भरी खबर है। सरकार ने फिल्म की शूटिंग के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र, नवीनीकरण और नवीनीकरण के लिए सिंघल डायमंड बोर्ड की सुविधा शुरू कर दी है। एनओसी जारी करने के लिए कलेक्टर को अधिकृत किया गया है। पिछले दिनों रायपुर में फिल्म सिटी के निर्माण पर भी सरकार ने योजना बनाई थी। अब इसमें भी तेजी से आने के संकेत हैं। प्रदेश के कई प्राकृतिक सौंदर्य वाले लोकेशन्स को देखते हुए यह समझा जा रहा है कि यदि यहां फिल्मों की शूटिंग में मदद की गई तो बॉलीवुड के निर्माता-निर्देशक भी आकर्षित होंगे।

समय सीमा में प्रमाणपत्र जारी करने के लिए इसे लोक सेवा सुनिश्चित कानून में भी शामिल कर लिया गया है। अब आवेदन देने के 30 दिनों के भीतर कलेक्टर को प्रमाणपत्र देना होगा। संस्कृति विभाग ने इसकी अधिसूचना जारी की है। अधिसूचना के मुताबिक फिल्म की शूटिंग के लिए मुफ्त अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने वाले जिले के कलेक्टर को अधिकृत किया गया है। इस सेवा के सुचारू कार्यान्वयनयन के लिए संभागायुक्त को सक्षम अधिकारी और संचालक संस्कृति को अपीलीय अधिकारी बनाया गया है। इस सेवा को छत्तीसगढ़ लोक सेवा फर्म अधिनियम के तहत सम्मिलित करते हुए 30 दिन की समयावधि निर्धारित की गई है।

संस्कृति विभाग विशेष सेल में मदद करेगा

अधिकारियों ने बताया, फिल्म निर्माण के लिए अनापत्ति प्राप्त करने की आवेदन प्रक्रिया के संबंध में आवश्यक जानकारी के लिए विभाग में एक फिल्म सेल का गठन किया गया है। इसमें फिल्म निर्माण से जुड़े परामर्श और मार्गदर्शन भी उपलब्ध होंगे।

मैनपाट में तिब्बती शिविर, बुद्धि मंदिर और पर्वतीय स्थल शिमला का अहसास बनाते हैं।  मैनपाट में 20 से 25 पर्यटन प्वाइंट हैं।  इनमें टाइगर प्वाइंट, मेहता प्वाइंट, फिश प्वाइंट, किंग प्वाइंट, परपटिया व्यू, बौद्ध मंदिर और उल्टा पानी व जल स्थल शामिल हैं।

मैनपाट में तिब्बती शिविर, बुद्धि मंदिर और पर्वतीय स्थल शिमला का अहसास बनाते हैं। मैनपाट में 20 से 25 पर्यटन प्वाइंट हैं। इनमें टाइगर प्वाइंट, मेहता प्वाइंट, फिश प्वाइंट, किंग प्वाइंट, परपटिया व्यू, बौद्ध मंदिर और उल्टा पानी व जल स्थल शामिल हैं।(*30*)

प्रदेश के ये लोकेशन्स किसी से कम नहीं

फिल्म उद्योग को यदि कनेक्टिविटी, शासन की मदद, सुरक्षा और सुविधाओं की चक्की पर जाएं तो छत्तीसगढ़ में ऐेसी खूबसूरत, हरी-भरी वादियों, झील-झरनों की कमी नहीं है जो देश-विदेश के लोकेशन्स को टक्कर दे सके। बस्तर का चित्रकोट जलप्रपात जब पूरी रवानी में होता है तो विश्वप्रसिद्ध नियाग्रा फाल की याद दिला देता है। यहां का तीरथगढ़ फॉल, कुतुमसर की गुफाओं, दंतेवाड़ा की घाटियों, ढोल परिवार की पहाड़ियों और अनदेखी करने वाले कई झरने ऐयसे हैं जो सभी तरह की फिल्मों के लिए पर प्रभाव लोकेशन हो सकते हैं।

कवर्धा का चिल्फी, भोरमदेव, सूपखार के जंगल, मुंगेली का अचानकमार सागर रिजर्व, सरगुजा का मैनपाट, कोरिया का अरण्डी जलप्रपात, राजिम का त्रिवेणी संगम, राज्य के कई जिलों से गुजरती महानदी का विशाल रेतीला पाट, इंद्रावती नदी के किनारे, अमरकंटक से लगे हुए हैं। हुए घने जंगल जैसे अनगिनत स्थान यहाँ मौजूद है। बॉलीवुड के निर्माता-निर्देशकों की नजर यदि इन नजरों पर पड़ रही है और सरकार उन्हें सुरक्षा, सुविधाएं देने का वादा करे तो जल्दी ही छत्तीसगढ़ फिल्मी दुनिया का चहेता लोकेशन हो जाएगा।

राजकुमार राव और पंकज त्रिपाठी की फिल्म 'न्यूटन' की शूटिंग छत्तीसगढ़ के दल्ली राजहरा के जंगलों में की गई थी।

राजकुमार राव और पंकज त्रिपाठी की फिल्म ‘न्यूटन’ की शूटिंग छत्तीसगढ़ के दल्ली राजहरा के जंगलों में की गई थी।(*30*)

आस्कर में भेजी गई न्यूटन की शूटिंग हुई है

छत्तीसगढ़ में पिछले कुछ वर्षों में छत्तीसगढ़ी और भोजपुरी फिल्मों की लगातार शूटिंग हुई है। एक भविष्यवाणी आंकड़ें के मुताबिक 250 फिल्मों की शूटिंग यहां के अलग-अलग लोकेशन्स पर हो चुकी है। गानों के कई संस्करणों और शार्ट फिल्म व डाक्यूमेंट्री भी शूट हो चुकी है। लेकिन बॉलीवुड को प्रदेश आकर्षित नहीं कर पाया है। बॉलीवुड निर्माताओं ने पिछले वर्षों में महज 3-4 फिल्मों की लोकेशन्स के लिए प्रदेश को चुना। इसमें सबसे महत्वपूर्ण राजकुमार राव स्टारर न्यूटन है। इसे ऑस्कर के लिए भी भेजा गया था।

नक्सल इलाके में चुनाव कराने के विषय पर आधारित इस फिल्म की शूटिंग दल्ली-राजहरा सहित कुछ स्थानों पर हुई थी। एक और चर्चित फिल्म भूलन-द पत्रिका की शूटिंग भी प्रदेश में हुई है। यदि प्रदेश में फिल्म निर्माण को सहयोग की बात होती है तो निश्चित रूप से बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग के साथ-साथ रोजगार भी तेजी से बढ़ेंगे।

खबरें और भी हैं …(*30*)

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: