Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

पर्दे में बैनर मशीन, कोर्ट में याचिका: रायपुर के मेकाहारा में 2 साल से धूल खाकर 18 करोड़ की पेट बैनर मशीन, कोटि मरीजों के लिए इस्तेमाल की गई मांग; हाईकोर्ट ने शासन से मांगा जवाब दिया

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • छत्तीसगढ
  • अंबेडकर अस्पताल रायपुर में 19 मरीजों को रखा गया, पेट स्कैनर मशीन का उपयोग करने की मांग; भूपेश बघेल सरकार पर छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय

(*2*)

बिलपुर15 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

कोरोना संक्रमण के बीच जद्दोजहद करने के कई मामलों को लेकर छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में जनहित याचिकाएं दायर की गई हैं। ऐसे में रायपुर के मेकाहारा (डॉ। भीमराव अंबेडकर मेमोरियल अस्पताल) में पर्दे में दो साल से ढंकी 18 करोड़ की पेट बैनर मशीन को लेकर याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि इस मशीन का उपयोग को विभाजित रोगियों के लिए किया जाना चाहिए। कोर्ट ने इस मामले में सरकार से दो दिन में जवाब मांगा है।

रायपुर निवासी सुमित अटवानी ने अधिवक्ता अभ्युदय सिंह के माध्यम से हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। कहा गया है कि कैंसर पीड़ित रोगियों के लिए फरवरी 2019 में अस्पताल की कैंसर यूनिट में पेट बैनर मशीन का पूरा कोलम्बिया तैयार हो गया था। इसके बाद से लेकर आज तक तक इसका कोई उपयोग कैंसर के रोगियों के लिए नहीं हुआ। अब न ही इसका इस्तेमाल कोविड मरीजों को सुविधा देने के लिए किया जा रहा है।

रायपुर में 8 सीटीएन मशीन, कैंसर यूनिट में शुरू मशीन का उपयोग हो

हाईकोर्ट चीफ जस्टिस की बाल्जननेट में दायर याचिका में मशीन का उपयोग सीटी स्कैन की तरह को विभाजित पेशेंट के लिए किए जाने की मांग की गई है। याचिका में यह भी कहा गया है कि पूरे रायपुर में केवल 8 ही सीटी स्कैनर मशीनें हैं। इस मशीन की कमी को देखते हुए पेट बैनर मशीन का उपयोग किया जा सकता है। मामले की सुनवाई के बाद कवजनेट ने ने शासन से जवाब मांगा है। इसकी अगली सुनवाई शुक्रवार को होगी।

पेट की मशीन क्या है

पेट बैनर मशीन पूर्ण स्कैन और MRI से अधिक एडवांस है, जोकि कैंसर से बीमारी को डायग्नोस करती है। मशीन के जरिए हुई घटनाओं से साफ हो जाता है कि कैंसर की मुख्य वजह क्या है, कहां और क्यों फैल गई है। मेडिकल की भाषा में कहें तो इसके इस्तेमाल से बायोलॉजिकल डिसीज का पता चलता है।

रेडियोथेरेपिस्ट पेट स्कैन रिपोर्ट के आधार पर बेहतर तरीके से इलाज कर सकते हैं। स्कैन होने के बाद मरीज के मेटाबोलिज्म में हो रहे बदलाव का पता चलता है। स्कैन यह बता देता है कि हमारे ऑर्गन के साथ टिश्यू किस तरह काम कर रहे हैं। स्कैन से डाक्टर उस ऑर्गन में इलाज कर सकते हैं, जिसमें कैंसर पनप रहा है।

यह मशीन चीनी का दौर की एडवांस तकनीक है। इसके माध्यम से शरीर के किसी भी अंग को स्कैन किया जा सकता है। लिम्फोमा, ब्रेन कैंसर, गले का कैंसर, सिर और गर्दन का कैंसर, लंग कैंसर का डिटेक्शन भी इस मशीन से होता है। घावों में चिप स्कैन व एमआरआई के मुकाबले पेट स्कैन मशीन बेहतर परिणामजे देती है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: