Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अस्पताल की दहलीज पर मौत: वैक्सीनेशन के बाद बिगड़ी तबीयत में टेस्ट कराने ले आए; कोरोना के लक्षण देखने वाले कर्मचारियों ने एकर्न्स से उतारने से किया इनकार, महिला ने तड़प कर तोड़ा दम

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कांकेर4 घंटे पहले

छत्तीसगढ़ में सिस्टम और अफसरों की लापरवाही ने फिर एक जान ले ली। कांकेर में एक महिला ने रविवार को अस्पताल की दहलीज पर ही दम तोड़ दिया। वैक्सीनेशन प्रदान के बाद महिला की तबीयत बिगड़ी थी। इसके बाद बीएमओ ने कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा। जब महिला को लेकर परिजन अस्पताल पहुंचे तो किसी ने हाथ नहीं लगाया। परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया। सूचना मिलने पर प्रशासन की टीम भी वहां पहुंच गई।

महिला की मौत के बाद परिजन बाहर रोते-बिलखते रहे और उन्होंने जमकर हंगामा भी किया।

जानकारी के मुताबिक, पंखाजुर के योगेंद्रनगर गांव निवासी रूपोशी ओरदार की तबीयत बिगड़ने पर परिजन रविवार को सिविल अस्पताल में पहुंचे थे। महिला को कोरोना के लक्षण थे। कोई भी कर्मचारी उसे एकर्न्स से उतार कर अंदर लाने के लिए तैयार नहीं था। महिला को अंदर ले जाने का भी कोई इंतजाम नहीं था। परिजन खुद ही किसी तरह महिला को उठाकर अस्पताल में ले गए, लेकिन इस सबके बीच अस्पताल गेट पर उसकी मौत हो गई।

महिला के लक्षण को विभाजित वाले थे।  अस्पताल के कर्मचारियों के पास किट भी नहीं थी, तो उन्होंने महिला को को विभाजित केंद्र ले जाने के लिए कहा।

महिला के लक्षण को विभाजित वाले थे। अस्पताल के कर्मचारियों के पास किट भी नहीं थी, तो उन्होंने महिला को को विभाजित केंद्र ले जाने के लिए कहा।

परिजनों का आरोप- इलाज नहीं करने से महिला की जान चली गई
परिजनों ने आरोप लगाया है कि इलाज नहीं करने के कारण महिला की जान गई है। महिला का वजन काफी था। ऐसे में 5 लोग मिलकर उसे बहुत मशक्कत करने के बाद उठा सकते हैं। इस बीच उसकी तबीयत बिगड़ती जा रही थी। महिला के बेटे ने कहा कि कोई उनकी मदद के लिए नहीं आया था। उसकी मां को ऑक्सीजन भी नहीं दी गई। वहीं हंगामे की सूचना पर पहुंची प्रशासन की टीम परिजनों को काफी देर तक शव से अलग करने की मशक्कत करती रही।

महिला के देवर ने बताया वैक्सीनेशन कराने के बाद महिला की तबीयत बिगड़ी थी।  इसके बाद बीएमओ ने कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा।

महिला के देवर ने बताया वैक्सीनेशन कराने के बाद महिला की तबीयत बिगड़ी थी। इसके बाद बीएमओ ने कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा।

वैक्सीन लगवाने के बाद बुखार आया तो कहा- पैरासिटामोल खिलाओ
महिला के देवर ने बताया कि 15 दिन पहले उसकी भाभी को वैक्सीन लगाई गई थी। इसके बाद उनके पास आ गया। बीएमओ ने पहले कहा कि बुखार एक-दो दिन में ठीक हो जाएगा, फिर पैरासिटामोल दवाई देने के लिए कहा। इसके बाद भी उनकी तबीयत ठीक नहीं रही थी। इस पर उन्होंने फिर बीएमओ को जानकारी दी तो उन्होंने कोविड टेस्ट कराने के लिए कहा। टेस्ट कराने के लिए ही अस्पताल लाए थे, लेकिन भाभी की तड़पते हुए जान निकल गई।

कोविद अस्पताल ले जाने की सलाह देते हैं कर्मचारी
महिला के लक्षण को विभाजित वाले थे। अस्पताल के कर्मचारियों के पास किट भी नहीं थी, तो उन्होंने महिला को को विभाजित केंद्र ले जाने के लिए कहा। परिजन उनसे बार-बार देखने की गुहार लगाते रहे और कर्मचारी अपनी बात पर अड़े थे। इस बीच महिला की तबीयत बिगड़ती जा रही थी। कुछ देर बाद डॉ ने बाहर आकर देखा और फिर महिला को अंदर लाने के लिए कहा। परिजनों ने किसी तरह प्रयास कर महिला को उठाया, पर अस्पताल गेट पर ही उसकी मौत हो गई।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: