Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

हौसला को सलाम: 20 मजदूर 24 घंटे में बारी-बारी एक घंटे सोकर 300 की जगह अब रोज 1000 सिलेंडर में भरकर ऑक्सीजन

  • हिंदी समाचार
  • राष्ट्रीय
  • एक घंटे में वैकल्पिक रूप से 24 घंटे में 20 मजदूर सो रहे हैं, 300 के बजाय हर दिन 1000 सिलेंडर में ऑक्सीजन भरा जा रहा है

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अंबिकापुर43 मिनट पहले

  • (*20*)कॉपी लिस्ट

  • 24 घंटे काम से 20 में से 5 लेबरिकाएं की तबीयत बिगड़ी, मांग के 3 दिन बाद तहसीलदार ने 10 श्रमिक भेजे, वे भी अप्रशिक्षित थे
  • प्लांट के श्रमिक बोले- ऑक्सीजन के अभाव में मौतों से नहीं आ रही नींद
  • सरगुजा संभाग के 3 जिले में कोरोना रोगियों को ऑक्सीजन देने सूरजपुर के नयनपुर प्लांट में यूपी- बिहार के जिला अस्पताल को भरना है

सरगुजा संभाग के 3 जिलों के लिए प्लांट में सिलेंडर में ऑक्सीजन भर रहे यूपी और बिहार के 20 श्रमिकों का जज्बा देख कोरोना की मां तय है। क्यों यह 20 मजदूर जहां पहले एक दिन में सिर्फ 300 सिलेंडर में ऑक्सीजन भर रहे थे। वहीं आक्सीजन से लोगों की मौतों की खबर सुनकर 24 घंटे में बारी-बारी से सिर्फ एक-एक घंटे सोकर रोज 1000 सिलेंडर में आक्सीजन भर रहे हैं।

प्लांट में काम कर रहे श्रमिकों का कहना है कि ऑक्सीजन के अभाव में लोगों की मौत होने की खबर सुनकर उन्हें नींद नहीं आ रही है। वहाँ लगातार काम करने के बाद शरीर भी जवाब दे रहा है, इसके बाद भी काम करने का हौसला कायम है। इसके कारण 20 में से 5 श्रमिकों की तबीयत खराब हो गई है। यही नहीं प्लांट के मालिक अंजनी सिंघल भी मजदूरों की कमी में खुद एक सप्ताह से रात में बिना सोए आक्सीजन उत्पादन में लगे हैं। उनका कहना है कि यहाँ दस्तावेज़ लेबर ही प्लांट में ऑक्सीजन उत्पादन कर सकते हैं। बता दें कि सरगुजा संभाग में एक मात्र ऑक्सीजन प्लांट सूरजपुर के नयनपुर में है। यहां पहले एक दिन में 300 सिलेंडर में आक्सीजन भरी जाती थी।

प्रयोगशाला मजदूरों से ही सुचारू ऑक्सीजन उत्पादन हो सकेगा

प्लांट के मालिक अंजनी ने अंबिकापुर कलेक्टर से लेबर मुहैया कराने कहा, लेकिन तीन दिन से सिर्फ आश्वासन ही मिल रहा है। बुधवार को मजदूरों ने एक घंटे के लिए भरे सिलेंडरों को वाहनों में लोड करना बंद कर दिया। इसकी जानकारी सिंघल ने सूरजपुर तहसील को दी। उन्होंने दूसरे दिन मजदूर उपलब्ध कराने का भरोसा दिलाया। इसके बाद ऑक्सीजन का ट्रांसपोर्ट शुरू हुआ। वहीं गुरुवार को 10 मजदूर भेजे गए हैं, इससे राहत मिली है, लेकिन सिंघल का कहना है कि उन्हें और श्रमिक को चाहिए, केवल आक्सीजन उत्पादन सुचारू रूप से हो सकेगा।

खाली सिलेंडरों की भी कमी, सहयोग की अपील

प्लांट के मालिक सिंघल ने बताया कि उनके पास केवल 2500 सिलेंडर हैं जो कम पड़ रहे हैं। उन्हें और खाली सिलेंडर की जरूरत है, क्योंकि उन्हें भविष्य में ऑक्सीजन उत्पादन प्रति दिन 15 सौ तक करना पड़ा तो कम से कम उनके पास 400 टन होने का अनुमान है। बताया कि एक तरफ सिलेंडर यहां भरे जाते हैं तो दूसरी तरफ आधे सिलेंडर अस्पताल में ट्रांसपोर्ट में होते हैं, इसके कारण सिलेंडर और बढ़ाने होंगे।

ऑक्सीजन उत्पादन में लगे कर्मी ही कर सिलेंडर लोड अनोद कर रहे हैं

बता दें कि जो 15 पेपर मजदूर ऑक्सीजन उत्पादन में लगे हुए हैं। अब उन्हें मजदूर के कंधों पर सिलेंडरों में ऑक्सीजन भरने के बाद वाहन में लोड कर भेजने की जिम्मेदारी आ गई है। वहाँ अस्पताल में वे सीधे ऑक्सीजन सिलेंडर भेजते हैं तो वहाँ भी लोड अनोड करने लेबर भेजने पड़ रहे हैं। जबकि कई बार अस्पतालों का कहा गया था कि वाहन में खाली सिलेंडर लोड कराकर रीफिलिंग सिलेंडर उतार लें, ताकि प्लांट से उन श्रमिकों का न भेजना पड़े जो आक्सीजन उत्पादन में लगे हैं।

दो प्लांट से 2000 सिलेंडर भरने की क्षमता, लेकिन लेबर व सिलेंडर नहीं

सिंघल ने आरोप लगाया है कि कुछ अस्पताल प्रबंधक उनके कर्मचारियों के साथ दुर्व्यवहार कर रहे हैं। लेबर की कमी होने के बाद भी अंबिकापुर में एक केंद्र शुरू किया गया है। जहां से अंबिकापुर के अस्पताल ऑक्सीजन ले जा सकते हैं। लेकिन वहाँ उनके कर्मचारी के साथ मारपीट की घटना हो गई है। वह थाने में भी शिकायत की है। उनका कहना है कि जिला प्रशासन का भविष्य में सहयोग पूरी तरह से नहीं मिला और लेबर नहीं मिले तो उत्पादन बढ़ाना मुश्किल हो जाएगा। जबकि नयनपुर में सिंघल के दो आक्सीजन प्लांट हैं। जहां से 24 घंटे में अधिकतम दो हजार सिलेंडर आक्सीजन उत्पादन किया जा सकता है।

(*24*)खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: