Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

कोरोना से लड़ाई में मदद मांगी: छत्तीसगढ़ सरकार ने जागरूक करने, होम आइसोलेशन दवा किट बैंडिंग का दिया जिम्मा, उद्योगों ने सरकार से वैक्सीनेशन में सहयोग मांगा

  • हिंदी समाचार
  • स्थानीय
  • छत्तीसगढ
  • रायपुर
  • छत्तीसगढ़ कोरोना अपडेट; छत्तीसगढ़ में उद्योग इस क्षेत्र में घरेलू अलगाव दवा किट के लिए जिम्मेदार हैं, उद्योगों ने टीकाकरण में सरकार से सहयोग प्राप्त किया है

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर9 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रोज ही कोरोना नियंत्रण में मदद करने के लिए ऐसी बैठकें ले रहे हैं। औद्योगिक संगठनों ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में भी मदद की है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उद्योग संगठनों की मदद मांगी है। औद्योगिक समूहों और संगठनों के साथ मुख्यमंत्री ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा की। उन्होंने उद्योगों के आसपास के गांव कस्बों में लोगों को जागरूक करने और होम आइसोलेशन दवा की किट बांटिंग की बात की। उद्योग समूहों ने भी मुख्यमंत्री में संस्थान के कर्मचारियों को टीका लगाने में मदद मांगी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, कोरोना संक्रमण से बचाव और हस्तक्षेप के लिए सभी औद्योगिक परिसर और खदान संयंत्र के आसपास के गांवों में सघन रूप से जन जागरूकता का अभियान शुरू होना चाहिए। सभी औद्योगिक अंग वहाँ कार्यरत कर्मचारियों और श्रमिकों सहित आसपास के लोगों को कोरोना की दवाओं के किट का वितरण लता सेते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना के लक्षण दिखते ही अगर व्यक्ति दवा का सेवन शुरू कर दें तो गंभीर स्थिति का सामना नहीं करना पड़ता है।

इस दौरान विभिन्न औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों केके झा, रामभगत अग्रवाल, नरेन्द्र गोयल, कमल सारदा, अतुल साहू, बीएल अग्रवाल, हरीश केडिया, अश्विन गर्ग, संजय अग्रवाल, अशोक सुराणा, प्रदीप टंडन और मनोज अग्रवाल ने अपने संस्थान में कोरोनाईकरण के लिए किया। शिविर लगाने में सरकार से सहयोग मांगा। बैठक में उद्योग मंत्री कवासी लखमा, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव मनोज कुमार पिंगुआ और मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी भी मौजूद रहे।

वैक्सीन की चुनौतियों की वजह से मदद की बात

बैठक में मौजूद लोगों ने बताया, औद्योगिक संगठनों ने कहा है कि केंद्र सरकार की वैक्सीन नीति की वजह से उन्हें वैक्सीन मांस मिलने की संभावना है।]छोटी संख्या में भी वैक्सीन कंपनियां ज्यादा तरजीहें नहीं दिख रही हैं। ऐसे में उनके कर्मचारियों-श्रमिकों को वैक्सीन लगाने में सरकारी मदद की जरूरत होगी। यदि सरकारी वैक्सीनेशन अभियान के तहत उनके यहां शिविर लगाया जाए तो उन्हें मदद मिल सकती है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: