Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

गढ़चिरौली में एनकाउंटर: सी -60 फोर्स के जवानों ने दो नक्सलियों को मार गिराया, 4 घंटे चली मुठभेड़; 5 दिन पहले इसी इलाके के थाने पर पार्किंग लचर से किया था हमला

(*5*)

राजनांदगांव / मुंबई24 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र की सीमा से लगे गढ़चिरौली में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ के दौरान दो नक्सलियों को सुरक्षा कर दिया।

छत्तीसगढ़-महाराष्ट्र बार्डर से लगे गढ़चिरौली जिले में बुधवार सुबह सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। लगभग 4 घंटे चले इस मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों ने दो नक्सलियों को मार गिराया है। उनके शव भी बरामद कर लिए गए हैं। अभी इस मामले में ज्यादा जानकारी सामने नहीं आ सकी है। पुलिस अफसरों की ओर से शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई है।

(*4*)

भारत बंद के दौरान नक्सलियों ने एक तार पहले सड़क निर्माण कार्य में लगे वाहनों में आग लगा दी।

जानकारी के मुताबिक, महाराष्ट्र में गढ़चिरौली जिले के एटापल्ली में नक्सलियों की मौजूदगी की सूचना पर C-60 फोर्स के युवा सर्चिंग पर निकले थे। बुधवार सुबह लगभग 6.30 बजे जांबिया-गट्टा के जंगलों में वापस लगाए गए नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। इस पर जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई की। लगभग 4 घंटे चली मुठभेड़ के दौरान दो नक्सली मारे गए। एक का नाम वीरेन्द्र नरोटी और दूसरे का अजय नरोटी बताया गया है। एक नक्सली छत्तीसगढ़ में बीजापुर के रहने वाला है। बताया जा रहा है कि जांबिया-गट्टा पुलिस चौकी से लगभग 12 किमी दूर मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ के बाद घटनास्थल का जोरयना करने पर दोनों का शव सुरक्षाबलों को मिला।

एक दिन बाद ही सड़क निर्माण में लगे वाहनों में लगाई आग

वहीं 26 अप्रैल को नक्सलियों ने भारत बंद के दौरान गढ़चिरौली में भी 6 ट्रैक्टर और एक टैंकर में आग लगा दी थी। यह वाहन सड़क निर्माण कार्य में पर्मिली मेदपल्ली इलाके में लगे हुए थे। आग के चलते सभी वाहन जलकर खाक हो गए। हालांकि कोई जन हानि नहीं हुई। सूचना मिलने पर जवानों को इलाके में भेजा गया और तलाशी तेज कर दी गई। बताया जा रहा है कि देर रात नक्सलियों ने वारदात को अंजाम दिया था।

नक्सलियों ने जांबिया गट्टा थाना में हमला कर हाथों से बना राकेट लचरचर दागा।  वह थाना परिसर के निर्माणाधीन भवन में गिरा।  हालांकि विस्फोट नहीं हुआ।

नक्सलियों ने जांबिया गट्टा थाना में हमला कर हाथों से बना राकेट लचरचर दागा। वह थाना परिसर के निर्माणाधीन भवन में गिरा। हालांकि विस्फोट नहीं हुआ।

100 से ज्यादा नक्सलियों ने किया था

लगभग 5 दिन पहले 23 अप्रैल की रात लगभग 12.30 बजे नक्सलियों ने कांकेर जिले की सीमा से महज 14 किमी दूर महाराष्ट्र के जांबिया गट्टा थाना में हमला कर दिया। थाने के सामने बने मकानों की आड़ में लगभग 100 से अधिक नक्सली हमला करने पहुंचे थे। नक्सलियों ने पहले 4 राउंड गोली चलाई। इसके बाद हाथों से बना राकेट लॉचर डागा। वह थाना परिसर के निर्माणाधीन भवन में गिरा। हालांकि विस्फोट नहीं हुआ। सारी रात गोलियां चलती रहीं।

सी -60 एंट नक्सलांडो कौन हैं

गढ़चिरौली जिले की स्थापना के बाद से ही पूरे क्षेत्र में नक्सली कनेक्टिविटी वाले बढ़ गए थे। इस पर प्रतिबंध लगाने के लिए तत्कालीन एसपी केपी रघुवंशी ने 1 दिसंबर 1990 को C-60 की स्थापना की। उस समय इस फोर्स में सिर्फ 60 विशेषांडो की भर्ती हुई थी, जिससे यह नाम मिला। नक्सली गतिविधियों को रोकने के लिए गढ़चिरौली जिले को दो भागों में बांटा गया। पहला उत्तर विभाग, दूसरा दक्षिण विभाग।

प्रशासनिक कामकाज भी करते हैं C-60ando

येांडो को विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्हें दिन-रात किसी भी समय कार्रवाई करने के लिए ट्रेंड किया जाता है। इनकी ट्रेनिंग हैदराबाद, एनएसजी कैंप मनेसर, कांकेर, हजारीबाद में होती है। नक्सल विरोधी अभियान के अलावा ये युवा नक्सलियों के परिवार, नाते-रिश्तेदारों से मिलकर उन्हें सरकार की योजनाओं के बारे में बताकर समाज की बुनियादी सुविधाओं को जोड़ने का काम भी करते हैं। नक्सली क्षेत्रों में इन प्रशासनिक समस्याओं की जानकारी भी जुटाते हैं।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: