Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

मौत के बाद मुक्ति का इंतजार: गरियाबंद जिला अस्पताल की मोर्चुरी में न चार्ज, न स्वीपर; शवों के लिए 5-6 घंटे इंतजार, जब सर्जन आते हैं तब खुलता है ताला

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गरियाया हुआ12 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

शव चित्रों के दौरान उपयोग में आने वाले किट्टी, ग्लब्स, फेस और मेडिकल वेस्ट को मोर्चरी के कैंपस में ही बर्बाद हो जाता है। इससे संक्रमण का खतरा बना हुआ है।

छत्तीसगढ़ में फैले कोरोना संक्रमण और बढ़ती मौत के आंकड़ों के बीच जुगाड़ का शव प्रबंधन चल रहा है। पढ़ने में यह थोड़ा अजीब और बुरा है, लेकिन गरियाबंद जिला अस्पताल के हालात यही हैं। अस्पताल की मोर्चरी में न कोई शुल्क है और न ही स्वीपर। हर ओर शवों की छान के कचरे का ढेर है। जब सर्जन आते हैं तो ताला खुलता है। ऐसे में कोई शव आता है या परिजनों को सौंप जाता है तो सीएचसी से स्वीपर को बुलाना पड़ता है। फिर एपरेंस का इंतजार किया। ऐसे में 5 से 6 घंटे बाद ही परिजनों को शव मिलता है।

जब सर्जन आते हैं तो ताला खुलता है।  ऐसे में कोई शव आता है या परिजनों को सौंप जाता है तो सीएचसी से स्वीपर को बुलाना पड़ता है।  फिर एपरेंस का इंतजार किया।  ऐसे में 5 से 6 घंटे बाद ही परिजनों को शव मिलता है।

जब सर्जन आते हैं तो ताला खुलता है। ऐसे में कोई शव आता है या परिजनों को सौंप जाता है तो सीएचसी से स्वीपर को बुलाना पड़ता है। फिर एपरेंस का इंतजार किया। ऐसे में 5 से 6 घंटे बाद ही परिजनों को शव मिलता है।

शवों के साथ बढ़ती है मुश्किलें, हर बार दौड़ लगाता है सीएचसी का स्वीपर
दरअसल, जिला अस्पताल की मोर्चरी में शवों को रखने और उठाने के लिए पीपरछेड़ी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) से स्वीपर को बुलाना पड़ता है। कहाना धुरवा के पास सोमवार सुबह सड़क हादसे में दो लोगों की मौत हो गई। उनके शव सुबह 9 बजे पहुंचे। उन्हें रखने के लिए सीएचसी से स्वीपर बुलाना पड़ा। कुछ देर बाद एक नव विवाहिता का शव पहुंच गया। ऐसे में फिर से स्वीपर पहुंच गया। इसके चलते तीन शवों के पोस्टमार्टम ही दोपहर बाद तक हो गए।

पोस्टमार्टम के बाद शव लेने के लिए परिजन लगाते रहते हैं चक्कर
अस्पताल की मोर्चरी में शाम 5.30 बजे तक संक्रमण से मरने वाले 7 मरीजों सहित 10 शव पहुंच गए। ऐसे में सिविल सर्जन जीएस टंडन को बुलाना पड़ा। जब वे नहीं होते तो प्रबंधक व्यवस्था करते हैं। तब तक परिजन चक्कर लगाते रहते हैं। परिजन खुद ही शस की पेंटिंग भी करते थे। इसी तरह 21 अप्रैल को बरहबली के जयराम नेताम की मौत के बाद अंतिम संस्कार में 50 घंटे से ज्यादा लग गया। इसके बाद 23 अप्रैल को दो लोगों की नियुक्ति की गई।

एक मात्र शव वाहन मुक्तांजली के तहत संचालित है।  इसके कारण परिजनों को जब घंटों के इंतजार के बाद शव मिलता है तो उसे ले जाने के लिए वाहन नहीं होता है।  यह देखकर युवाओं के एक समूह ने बोलेरो पिकअप की निशुल्क व्यवस्था की है।

एक मात्र शव वाहन मुक्तांजली के तहत संचालित है। इसके कारण परिजनों को जब घंटों के इंतजार के बाद शव मिलता है तो उसे ले जाने के लिए वाहन नहीं होता है। यह देखकर युवाओं के एक समूह ने बोलेरो पिकअप की निशुल्क व्यवस्था की है।

मेडिकल वेस्टेज की अपडेटिंग नहीं, युवाओं ने की शव वाहन की व्यवस्था
जिला अस्पताल में एक मात्र शव वाहन मुक्तांजली के तहत संचालित है। इसके कारण परिजनों को जब घंटों के इंतजार के बाद शव मिलता है तो उसे ले जाने के लिए वाहन नहीं होता है। यह देखकर युवाओं के एक समूह ने सोमवार से एक बोलेरो पिकअप की निशुल्क व्यवस्था की है। वहीं शव प्रिंटिंग के दौरान उपयोग में आने वाले किट्टी, ग्लब्स, वर्क और मेडिकल वेस्ट को मोर्चरी के कैंपस में ही फेंका गया है। इससे संक्रमण का खतरा बना हुआ है।

जिला अस्पताल के मोर्चरी के लिए पीपरछेड़ी के स्वीपर को व्यवस्था में रखा गया है। मोर्चरी के लिए अलग से एक जवाबदारी तय करना होगा। शव गद्दी के लिए दो लोगो की नियुक्ति जीवनदीप समिति से की है। जल्द ही व्यवस्था को और सुधार होगा।
– डॉ। जीएस टुंडन, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल, गरियाबंद

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: