Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अमानवीय करतूत: नाबालिग फोन पर बात करती थी, पिता ने गला घोंट कर दी हत्या

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिस्ट

लैल करेगा के तोलमा में 22 दिन पहले घर से लापता हुई एक नाबालिग का शव मिला था। इस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। नाबालिग बेटी के फोन पर बात करने से नाराज पिता ने उसकी हत्या कर मामले को गुमशुदा बच्ची की हत्या का रंग दिया था। इस अमानवीय करतूत में उसकी पत्नी और बड़ी बेटी ने भी उसका साथ दिया।

गुरुवार को एसपी संतोष सिंह लैल करेंगे के दौरे पर थे। इसी दौरान तोलमा में नाबालिग के हत्या के मामले का खुलासा कर दिया। 31 मार्च को ग्राम तोलमा निवासी जगदीश टोप्पो (50) ने लैल को थाने में 23 मार्च की शाम से बेटी आइलिन टोप्पो (15 वर्ष) की गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया। पिता ने बताया था कि आइलिन की मोबाइल पर बातचीत को लेकर उसकी बड़ी बहन टोप्पो (20) से लड़ाई हुई। इसके बाद वह गायब हो गया। सूचना पर पुलिस ने नाबालिग की खोजबीन शुरू की।

दो दिन बाद ही 2 अप्रैल को तोलमा गांव के पास जमान नाला में इलिन का शव मिला। पीएम रिपोर्ट में हत्या होने की बात सामने आई। इसके बाद पुलिस ने अपनी जांच शुरू की। जांच के दौरान एक गवाह से पता चला कि घर से रूठ कर भागने के बाद 23 मार्च को ही नाबालिग शाम को अपने घर को छोड़ दिया गया था। गुस्से में पिता ने आइलिन के बाल पकड़े और उसका सिर दरवाजे पर दे मारा। नाबालिग के दांत टूट गए। इतने से भी आरोपी जगदीश का गुस्सा शांत नहीं हुआ वह बेटी को कमरे में ले गया और उसका गला घोंट दिया। आरोपी जगदीश की पत्नी और बड़ी बेटी को धारा 302, 201, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर जेल भेज दिया गया।

खून के धब्बे मिटेन मां और बड़ी बहन की लिपाई
लड़की के मरने के बाद उसे स्टोर रूम में रखा गया। चारों तरफ खून के छींटे पड़े थे। दरवाजे पर भी खून के निशान थे। पुलिस को कमरे से बदबू आई। एफएसएल टीम से जांच कराई गई। मोबाइल सर्विसेजलांस से सबका लोकेशन जाना। गवाह से मिली जानकारी घर से मिले क्लोन की कड़ी जोड़ती हुई पुलिस आरोपियों तक पहुंची। पुलिस ने मृत नाबालिग की मां और बहन से पूछताछ शुरू की। आरोपी ने खुद कबूल लिया कि उसी ने अपनी बेटी को मारा है। आरोपी ने यह भी कहा कि उसमें उसकी पत्नी और उसकी बड़ी बेटी का हाथ नहीं है।

24 घंटे तक प्रत्येक रखने के बाद ढाका झाड़ियों में
निर्दयी पिता ने हत्या के बाद लगभग 24 घंटे तक बेटी का शव घर में ही रखा। दूसरे दिन उसने घर से थोड़ी दूर खेत की झाड़ियों में शव को रख दिया। मृतका के कपड़े, स्वेटर और बाकी कपड़े भी दिए गए। कपड़ों में भी गोबर के दाग लगे हुए थे। आरोपियों ने 7 दिन बाद थाने में नाबालिग के गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। आरोपी जगदीश के शातिर दिमाग का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बेटी की हत्या के बाद उन्हें बेटी का फोटो लगाकर अपील वाला पत्र लिखा गया। पुलिस को गुमराह करने इसे सोशल मीडिया पर वायरल किया गया।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: