Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अगवा DRG जवान की हत्या: बीजापुर में SI मुरली ताती की नक्सलियों ने गला घोंट कर हत्या की, लिंग रात सड़क किनारे फेंका शव, 3 दिन पहले किया था अपहरण

(*3*)

बीजापुर6 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में अगवा किए गए DRG के SI मुरली ताती की नक्सलियों ने हत्या कर दी।

छत्तीसगढ़ के बीजापुर में अगवा किए गए DRG (डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड) के SI मुरली ताती की नक्सलियों ने शुक्रवार देर रात हत्या कर दी। उनका शव सड़क किनारे फेंक कर नक्सली भाग निकले। SI मुरली ताती को 3 दिन पहले नक्सलियों ने अगवा कर लिया था। नक्सलियों की पश्चिम बस्तरवजन ने जवान की हत्या करने की जिम्मेदारी ली है। वहीं वारदात की पुष्टि आईजी सुंदरराज पी। ने की है। मामला गंगालूर थाना क्षेत्र का है।

DRG के SI मुरली ताती की नक्सलियों ने पुलसुम पारा के पास हत्या की है। इसके बाद उनके शव को देर रात एड्समेटा के पेददा पारा में फेंक कर नक्सली भाग गए। शव के ऊपर पचा भी नक्सलियों ने रखा है। इसमें युवा को मारने के पीछे उसके फोर्स के साथ काम करना और मुठभेड़ के दौरान पीएलजीए के नक्सलियों को मारना कारण बताया गया है। SI मुरली ताती वर्ष 2006 से DRG में पदस्थ थे और लगातार काम कर रहे थे।

नक्सलियों ने 21 अप्रैल की शाम को पालनार से किया था युवा को अगवा
डिस्ट्रीक्ट रिजर्व ग्रुप (DRG) SI मुरली ताती जगदलपुर स्थित पुलिस लाइन में पदस्थ थे और लगभग डेढ़ महीने से इलाज के लिए तलाश् टीटी पर चल रहे थे। वह बुधवार (21 अप्रैल) को गंगालूर क्षेत्र के पालनार में मेले में शामिल होने पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि शाम से करीब 4 बजे नक्सली उन्हें अगवा कर ले गए। इसके बाद से उनका कुछ पता नहीं चल रहा था। करीब दो साल पहले ही जवान का एएसआई से प्रमोशन हुआ था।

पत्नी ने कहा था- उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है, पति को छोड़ दो
युवा की पत्नी ताती ने नक्सलियों से अपील की थी कि उनके पति का तीन साल से मानसिक संतुलन ठीक नहीं है। मैं परेशान हूं कि अपने पति का कहीं अच्छी जगह इलाज कराऊं। ताती ने बताया था कि एक दिन उनके पति ने बाथरूम जाने की बात कही और घर से बाहर निकले। तीन दिनों तक परेशान होने के बाद पता चला कि बीजापुर में उनका अपहरण हो गया है। मेरी नक्सलियों से अपील है कि मेरे पति को वे छोड़ दें।

गोंडवाना समाज ने युवा को छोड़ने के लिए जोरता की बात कही थी
दूसरी ओर गोंडवाना समाज ने युवा को छुड़ाने की पहल की थी। उनका एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को नक्सलियों के आधार क्षेत्र में जाने वाला था। गोंडवाना समाज समन्वय समिति की ओर से कहा गया था कि युवा संभव तीन छोटे-छोटे बच्चे भी हैं। उनके भविष्य को देखते हुए नक्सलियों से युवा की रिहाई की अपील समाज करेगा। इसको लेकर एक प्रतिनिधिमंडल बात करने के लिए नक्सलियों के आधार क्षेत्र में जाएगा।

पहले भी सीआरपीएफ जवान और 3 महिलाओं को किया गया था

इससे पहले 3 अप्रैल को जोनागुड़ा में फोर्स और नक्सलियों की मुठभेड़ के बाद सीआरपीएफ जवान राकेश्वर सिंह को नक्सलियों ने बंधक बना लिया था। 6 अप्रैल को नक्सलियों के बताए जाने के बाद पद्मश्री धर्मपाल सैनी सहित अन्य लोगों की सेवाता से अपहृत युवा को 8 अप्रैल को मुक्त कराया गया। इसके बाद उसी रात मितानिन ट्रेनर सहित 3 महिलाओं का अपहरण कर लिया था। हालांकि, अगले दिन नक्सलियों ने तीनों महिलाओं को छोड़ दिया।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: