Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

छत्तीसगढ़ में कोरोना: हर दिन एक नया दुखद रिकॉर्ड, अब सिर्फ एक दिन में 219 लोगों की मौत, 17 हजार नए मरीज मिले, 14 हजार लोग ठीक हुए, गांवों में बिना टेस्ट के भी दवा देने के निर्देश

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

(*17*)रायपुर16 मिनट पहले

    (*14*)

चित्रा रायपुर के मेडिकल कॉलेज की है। शुक्रवार को छत्तीसगढ़ की राजकीय यात्राैया उइके ने कोरोना का केक लगवाया। सरकारी दावे के मुताबिक अब तक राज्य के 45 वर्ष से अधिक आयु समूह के 69 प्रतिशत को पहले डोज लगाया गया है।

छत्तीसगढ़ में शुक्रवार की रात जारी सरकार की ओर से जारी आंकड़े में एक नंबर डराता है। एक दिन में 219 लोगों की मौत हो गई है। एक साथ इतनी तादाद में मौत पहली बार है। सबसे अधिक 57 मौत रायपुर और बिलासपुर में 40 लोगों की जान गई। शुक्रवार की रात तक 17 हजार 397 नए कोरोनाटिक मिले। अब प्रदेश में सक्रिय मरीजों की संख्या 1 लाख 23 हजार 479 हो गई है। राज्य में 57 हजार 185 सैंपल जांचे गए। पूरे प्रदेश में अब तक 6893 लोगों की मौत हो चुकी है। शुक्रवार को ठीक होने वालों की संख्या 14 हजार 284 रही।

इन प्रमुख शहरों में कोरोना का हाल
रायपुर शहर में पिछले 24 घंटे में 3215 नए मरीज मिले हैं। 57 लोगों की मौत हुई, अब राजधानी में सक्रिय मरीज 17 हजार 662 है। दुर्ग में 1857 नए मरीज, 23 लोगों की जान चली गई। बिलासपुर में 1317 नए मरीज मिले, 40 लोगों की मौत हुई। अब यहां सक्रिय मरीज 9395 हैं। राजनांदगांव में 973 नए मरीज मिले, 11 लोगों की मौत हुई। यहां एक्टिव केस 7833 हैं। रायगढ़ में 1144 नए मरीज मिले, 7 लोगों की मौत हुई है। अब एक्टिव केस 7536 हैं। कोरबा में 843 लोग हुए, 19 लोगों की मौत हुई। अब यहाँ 7077 सक्रिय रोगी हैं।

गांव में रिपोर्ट का इंतजार नहीं होगा, लक्षण है तो दवा करेंगे सरकार
शुक्रवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांवों में को विभाजित के पूर्व लक्षण वाले लोगों को दवा देने को कहा है। मितानिनों के माध्यम से ये दवाएं लक्षण वाले रोगियों को दी जाएगी। साथ में एक पर्ची होगी, जिस पर दवा लेने के तरीके की जानकारी होगी। मुख्यमंत्री ने कहा है कि जैसे ही किसी व्यक्ति को सर्दी, खांसी, बुखार और कोरोना संक्रमण का लक्षण मालूम पड़ता है तो कोरोना जांच की रिपोर्ट का इंतजार किए बिना प्राथमिक रूप से तयशुदा दवाइयां शुरू कर देनी चाहिए। उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्षों और ग्रामीण जनप्रतिनिधियों को इस बारे में जागरुकता फैलाने को कहा है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: