Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

अपने साथ, अपनों का ख्याल रखना: अप्रैल के 21 दिनों में 93764 मरीज मिले, इनमें से 1948 की मौत; डर ज्यादा, क्योंकि पिछली बार बीमारी से, अब संक्रमण से बहुत ज्यादा मौतें हुईं

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बिलपुर10 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

यह तस्वीर रायपुर के अंबेडकर अस्पताल की है। यहां पर रेमदेसीवीर इंजेक्शन लेने के लिए लोगों की लाइन लगी है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के आंकड़े लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अप्रैल के 21 दिनों में केवल 93764 मरीज मिले हैं। जबकि, 1948 मरीजों की मौत हुई है। यह आंकड़े इसलिए भी डराते हैं कि पहली कोरोना लहर में लोग दूसरी बीमारियों से ज्यादा मरे, लेकिन इस बार संक्रमण के कारण मौत का खतरा बढ़ गया है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, इनमें से 1127 मरीजों की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हुई है।

गौरेला-पेंड्रा-मृत्युभोग (GPM) जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की सीमा से लगे बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी गई है।  हर आने-जाने वाले यात्रियों से पूछताछ और आवश्यक दस्तावेज चेक करने के बाद ही जाने दिया जा रहा है।

गौरेला-पेंड्रा-मृत्युभोग (GPM) जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की सीमा से लगे बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी गई है। हर आने-जाने वाले यात्रियों से पूछताछ और आवश्यक दस्तावेज चेक करने के बाद ही जाने दिया जा रहा है।

लोग इलाज के लिए सावधान हुए, इंजन डेड मरीजों की संख्या नगण्य हुई
यह आंकड़े इस बार कोरोना की शुद्धता को बता रहे हैं। पॉजिटिव रोगियों में मौत का एक बड़ा आंकड़ा (821) उनकी दूसरी बीमारियों का भी होना है। इन हाइपर दवाओं, कोननरी डिजीज (हार्ट पेशेंट) और डायबिटीज के रोगी बहुत हैं। हालांकि लोग इलाज और टेस्ट को लेकर पहले से ज्यादा सावधान रहते हैं। इसके कारण 138987 मरीज ठीक हुए हैं। ये सबसे बड़ी संख्या होम आइसोलेशन वालों की है। वहीं कारों डेड मरीजों की संख्या न के बराबर पहुंच गई है।

बुजुर्गों को भारी पड़ रही कोरोना की दूसरी लहर
पिछले साल 29 मई से अब तक कोरोना से मरने वालों में बुजुर्गों की संख्या 50 प्रति से ऊपर है। इसके बाद से 45 से 59 साल वालों की दूसरी सबसे ज्यादा मौत हो रही है। उनकी संख्या 40 प्रति है। बाकी आयु वाले 10 प्रति हैं। जिन बुजुर्गों की मौत हो रही है, वे अस्पताल पहुंचने के दौरान या अस्पताल में इलाज के 12 से 24 घंटे के बीच दम तोड़ रहे हैं। इसके पीछे भी डॉ। की बीमारियों और कम होती रोग प्रतिरोधक क्षमता को मानते हैं।

GPM में सख्ती हुई, बिना किसी दस्तावेज के एंट्री पर लगाई गई रोक
गौरेला-पेंड्रा-मृत्युभोग (GPM) जिले में कोरोना संक्रमण को देखते हुए छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की सीमा से लगे बॉर्डर पर चौकसी बढ़ा दी गई है। हर आने-जाने वाले यात्रियों से पूछताछ और आवश्यक दस्तावेज चेक करने के बाद ही जाने दिया जा रहा है। इस दौरान रिपोर्ट नहीं होने पर कई लोगों को लौटा भी दिया गया। सिर्फ अति आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहन, एकारेंस या खाद्य उपकरणों के वाहनों को एंट्री दी जा रही है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: