Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

जंगल में मुठभेड़: अंतागढ़ में सर्चिंग पर निकले DRG जवानों पर नक्सलियों ने दी फायरिंग, जवाबी कार्रवाई में रायफल और सामान छोड़कर भागे

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर4 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

नक्सलियों द्वारा फोर्स पर हमला करने की घटनाओं में लगातार बढ़ रही हैं, सुरक्षाबल भी एंटी नक्सल ऑपरेशन पूरी ताकत से छेड़े हुए हैं।) फाइल फोटो।

कांकेर जिले के अंतागढ़ क्षेत्र में सोमवार को नक्सली और DRG जवानों के बीच मुठभेड़ हो गई है। ये मुठभेड़ ताडोकी थाना क्षेत्र के मलमेटा गांव के पास हुई हैं। कोंडागांव और नारायणपुर जिले के युवा नक्सलियों के मौजूद होने के इनपुट पर इस ओर आए थे। केवल जंगल में नक्सलियों ने जवानों को देखकर उनपर फायरिंग कर दी। फौरन पोजिशन के बारे में जवानों ने भी गोली का जवाब गोली से दिया। हैवी फायरिंग के बीच जंगल की आड़ लेकर नक्सली भाग गए। गोली बारी रुकी तो युवा आगे बढ़े। जहां से नक्सली फायरिंग कर रहे थे, वहां उनकी एक रायफल और कुछ घरों का सामान मिला।

घटना के बारे में अंतागढ़ के एसडीओपी कौशलेंद्र पटेल ने बताया कि जहां फायरिंग हुई वह हिस्सा दूसरे जिलों से जुड़ा है। सर्चिंग टीम से हम और जानकारी ले रहे हैं। इलाके में अब भी सर्च ऑपरेशन जारी है। दूसरी तरफ दंतेवाड़ा जिले में मंगलवार की ही सुबह पुलिस जवानों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है जिसमें 5 लाख का इनामी नक्सली कोसा मारा गया। पुलिस ने उसकी बंदूक और नक्सलियों का कुछ सामान बरामद किया है।

लगातार घटनाएं हो रही हैं
बीजापुर में 3 अप्रैल को माओवादियों के हमले में 22 जवानों की शहादत के बाद बस्तर क्षेत्र में लगातार नक्सली घटनाएं हो रही हैं। नक्सली लगातर बस्तर के अलग-अलग इलाकों में कायराना हरकत कर रहे हैं। सुकमा में रविवार रात को भी नक्सलियों ने 2 ग्रामीणों को मौत के घाट उतारा दिया था। यहां शनिवार को भी नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगे कर्मचारी को मौत के घाट उतारा था और गुरुवार को 2 जवानों की भी धारदार हथियार से हत्या की थी।

बम लगाने वाले नक्सली के उड़े थे चिथड़े
इससे पहले फरवरी में भी नक्सलियों ने कांकेर जिले के आमाबेड़ा थाना क्षेत्र में फोर्स को नुकसान पहंचाने बम लग रहे थे। उसी दौरान ही बम फट गया था और बम लगाया जा रहा था। इस नक्सली के शरीर के टुकड़े पेड़ पर लटके मिले थे। इस इलाके के पास ही बोड़ागांव में बीएसएफ का कैंप है और सीमा से लगे हुए ईरागांव में भी जवानों के कैंप है। यही कारण है कि यहां नक्सली बड़ी घटना को अंजाम देने के फिराक में थे।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: