Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

भास्कर एक्सक्लूसिव: छत्तीसगढ़ में कोरोना के ज्यादातर मामलों में संक्रमण के स्रोत का पता नहीं, स्वास्थ्य मंत्री बोले- यह कम्यूनिटी स्प्रेड है

विज्ञापन से परेशान है? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुरएक घंटा पहलेलेखक: मिथिलेश

  • कॉपी लिस्ट

छत्तीसगढ़ में हर रोज औसतन 50 हजार जांच हो रही है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना का सामुदायिक संक्रमण (कम्यूनिटी स्प्रेड) शुरू हो चुका है। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने इसकी पुष्टि की है। सिंहदेव ने कहा, अब कोरोना के ज्यादातर मामलों में संक्रमण के स्रोत का पता नहीं चल रहा है। यह कम्यूनिटी स्प्रेड का चरण है।

दैनिक भास्कर से बातचीत में स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा, हम कांटे ट्रेसिंग के जरिये संक्रमण के स्रोत का पता लगाने की कोशिश करते हैं। अभी देखने में आज रहा है कि कोरोना की चपेट में आ रहे व्यक्ति को यह पता ही नहीं चल रहा है कि उसको बीमारी कहां से हुई थी। यह निश्चित रूप से कम्यूनिटी स्प्रेड की स्थिति है। इसकी वजह से बड़ी संख्या में लोग प्रभावित हो रहे हैं। सिंहदेव ने कहा, संक्रमण की दर पांच प्रतिशत से अधिक होने पर कम्यूनिटी स्प्रेड का खतरा बढ़ जाता है। हमारे यहाँ ट्रांसफ़र दर औसतन 30 प्रतिशत के आसपास बनी हुई है। कुछ जिलों में यह 50 प्रतिशत तक है। ऐसे में अधिक सावधान रहने की जरूरत है।

डॉ। भीमराव आंबेडकर मेडिकल कॉलेज में क्रिटिकल कैर एक्सपर्ट्स डॉ। OP सुंदरानी कहती हैं कि बहुत बुरी तरह कम्यूनिटी स्प्रेड तक शुरू हो चुकी है। अब संक्रमण का पता लगाना मुश्किल हो जाएगा।

रविवार को 170 मौतों का आंकड़ा आया

स्वास्थ्य विभाग की ओर से रविवार रात जारी बुलेटिन में 42652 जांच और 12345 पॉजिटिव केस की जानकारी दी गई। वहीं 14075 मरीज संक्रमण को मात देकर ठीक हुए। इसमें से 189 लोग अस्पतालों से डिस्चार्ज हुए हैं। 170 मरीजों की मौत भी हुई है। इनमें अकेले रायपुर के ही 67 मरीज शामिल हैं। बिलासपुर के 24 और रायगढ़ के 16 मरीज भी जान गवां बैठे।

हर रोज 15 हजार नए मरीज, 100 से ज्यादा मौतें

छत्तीसगढ़ में हर रोज औसतन 50 हजार जांच हो रही है। 15 हजार नए मरीज मिल रहे हैं। वहीं 100 से अधिक मरीजों की मौत हो रही है। 17 अप्रैल को प्रदेश में 16083 नए संस्थान मिले। 138 मरीजों की इलाज के दौरान मौत हुई। एक दिन पहले 16 अप्रैल को नए रोगियों की संख्या 14912 थी और 138 रोगियों की मौत हुई थी। उससे पहले 15 अप्रैल को 15256 नए मरीज मिले। वहीं 105 मरीजों की जान चली गई।

अप्रैल के अंत तक 1.5 लाख से 2 लाख सक्रिय रोगी होने का अनुमान

प्रदेश में अभी तक सक्रिय मरीजों की संख्या 128019 है। रोज 8 हजार से 9 हजार लोग ठीक हो रहे हैं। लेकिन मरीजों की बढ़ती संख्या से दबाव बढ़ रहा है। राज्य सरकार का अनुमान है कि अप्रैल महीने के अंत तक प्रदेश में सक्रिय रोगियों की संख्या डेढ़ से 2 लाख के बीच होगी। प्रदेश सरकार का अनुमान है कि इनमें से 20 प्रतिशत लोग यानी 40 हजार लोग अस्पताल ले आने की स्थिति में होंगे।

अब हमें क्या करना होगा

डॉ। भीमराव आंबेडकर मेडिकल कॉलेज, रायपुर में क्रिटिकल कैर एक्सपर्ट्स डॉ। ओपी सुंदरानी कहते हैं, अब बड़ा बड़ा है। हमें सावधानी भी उतनी ही होगी। जब तक बहुत जरूरी न हो घर से बाहर न बाहर निकलें। बाहर निकलते समय मुख पहनता है। साबुन से हाथ धोते रहें। किसी भी तरह का लक्षण दिखने पर तुरंत जांच कर सकते हैं। जांच की रिपोर्ट आने तक खुद को संक्षिप्त करें रखें। पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर होम आइसोलेशन के लिए फाॅर्म फिल। निर्देशों का पालन करें, ऑक्सीजन लेवल 90 से कम आने पर अस्पताल पहुंचे। ऐसा करके आप खुद के और दूसरों के लिए संक्रमण का खतरा कम करेंगे।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: