Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

स्टेडियम में बने अस्पताल का हाल: एडमिट होने के कुछ घंटे बाद ही लगे मरीज, 15 की मौत; भावना ने बताया- मेरे रूम के 4 लोग मर गए, मुझे भी सांस लेने में परेशानी हो रही है

(*4*)

(*15*)रायपुर2 घंटे पहले

शहर के सभी अस्पतालों में बिस्तर खाली हैं।

रायपुर के इंडोर स्टेडियम मेें बने को विभाजित अस्पताल का हाल भी बुरा है। उम्मीद की जा रही थी कि इसकी शुरुआत होने की वजह से राहत मिलेगी। मगर अंदर से मरीजों से मिली जानकारी के मुताबिक ये व्यवस्थाजम भी नाकाफी साबित हो रहे हैं। मंगलवार की दोपहर यहां मरीजों की भर्ती शुरू हुई तो भीड़ लग गई। शहर में चूंकि बिस्तर नहीं मिल रहा है, इसलिए मरीज यहां एडमिट हाएना चाहते थे। इलाज की आस में एडमिट हुए यहां के 15िटेन्स की गंभीर अवस्था में तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई। सांस की परेशानी झेल रहे लोगों की तकलीफ और उनके दम तोड़ने देने की स्थिति अपनी आंखों से देख चुके एक मरीज ने कहा दैनिक भास्कर । यहां की स्थिति बताई।

रायपुर के इंडोर स्टेडियम में भर्ती होने के लिए मंगलवार को इस तरह संवेदनशीलों की भीड़ लगी थी।

मेरे रूम वाले मर गए सर …
फोन कॉल पर इंडोर स्टेडियम की हालत बताने वाले मरीज ने कहा- मेरी आंखों के सामने ही 4 लोगों की मौत हो गई। यहाँ सिर्फ ऑक्सीजन का ही बंदोबस्त है, बाकि और कोई सुविधा नहीं है, मुझे जिस कमरे में रखा गया था हम 6 लोग थे। अब मैं और एक बुजुर्ग व्यक्ति ही बचे हैं, बाकी मेरे रूम वाले सब मर गए सर … अब उनके खाली बिस्तर ही पड़े हैं। मुझे भी हल्की सांस लेने में परेशानी और खांसी आ रही है। मंगलवार की रात में तो कुछ लोग डिस्चार्ज होकर चले गए। हालत बहुत खराब हैं।

यहां कोई देखने वाला नहीं है
रायपुर का एक युवक अपने बुजुर्ग माता-पिता के साथ स्टेडियम में बने को विभाजित केंद्र में है। कमरे से बाहर आकर उसने मीडिया के कैमरे पर कहा- यहां कोई देखने वाला नहीं है। मैं बार-बार कह रहा हूं कि मेरी मां को चक्कर आ रहे हैं, तकलीफ हो रही है कोई डॉ को नहीं लाना है, लेकिन कोई सुनने को तैयार है। पूछने पर कह देते हैं- आ रहे हैं …. आ रहे हैं। यहां बस फोटो गैलरी पैसे खाने का काम हुआ है, कोई सुविधा नहीं मिल रही है। कैमरे पर ये बातें कहते हुए एक कर्मचारी ने युवक को रोका तो उसने जवाब दिया कि अगर अंदर सब ठीक होता है तो मैं यूं बाहर नहीं आता।

ये तस्वीर इंडोर स्टेडियम के अस्पताल की है, कांग्रेस के कई नेता इस तस्वीर को साझा कर विदेशों से इसकी तुलना कर रहे हैं।

ये तस्वीर इंडोर स्टेडियम के अस्पताल की है, कांग्रेस के कई नेता इस तस्वीर को साझा कर विदेशों से इसकी तुलना कर रहे हैं।

उन ऑक्सीजन लेवल सामान्य उन्हें भर्ती कर रहे हैं
स्टेडियम में बने इस अस्पताल की व्यवस्था देख रहे अफसर आरबी सोनी ने बताया कि अब यहां ऑक्सीजन लेवल की जांच के बाद ही एडमिट किया जा रहा है। यहां वेंन्टिलेटर की सुविधा नहीं है। मंगलवार की रात 3 मरीजों की मौत हुई। बुधवार को दिनभर में 12 अन्य मरीजों की मौत हुई। सोनी ने कहा कि यहां 5 डॉक्टर्स की ड्यूटी लगी है जो कि मरीजों को सेवाएं दे रहे हैं। हर संभव मदद की जा रही है।

ये सुविधाएं यहां हैं
इंडोर स्टेडियम में बने अस्पताल में 360 बिस्तर लगे हुए हैं। सरकार की तरफ से कहा गया कि स्टेडियम के अस्पताल को 4 दिन में तैयार किया गया है। स्टेडियम में ही ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है। इस अस्थायी कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन के साथ 286 बिस्तर तैयार किए गए हैं, इसके अलावा 74 आइसोलेशन बेड भी यहां उपलब्ध हैं। इनमें 219 बेड पर ऑक्सीजन कंसनट्रेटर लगाए गए हैं, जिसमें ऑक्सीजन के साथ ही साथ नेबुलाइजेशन की सुविधा होगी। इस अस्थायी कोविड अस्पताल में फिल्में, सिनेमा, टीवी, सीरियल कैरम व अन्य इंडोर गेम, वार्ड में इंटर काॅम और मुफ्त वाई-फाई का भी इंतजाम है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: