Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

रेजिडेंट डाक्टरों ने मृत्यु पर मांगा शहीद का दर्जा: गवर्नर को लिखित पत्र, डॉक्टरों का आरोप- प्रशासन कर रहा है

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर28 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

रायपुर मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर इसी प्रारूप में पत्र लिख रहे हैं। इसमें उनकी मृत्यु के बाद शहीद का दर्जा देने की मांग की गई है।

रायपुर स्थित जवाहर लाल नेहरु मेडिकल कॉलेज के रेजिडेंट डॉक्टरों ने कोरोना ड्यूटी के दाैरान उनकी मौत होने पर शहीद का दर्जा मांगा है। मेडिकल कॉलेज में ज्यादातर जूनियर डॉक्टर गवर्नर को संबोधित ऐसे पत्र लिख रहे हैं। इस पत्र में उन्होंने डॉ। भीमराव अंबेडकर अस्पताल के प्रशासन पर इंडियन कौंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के बनाये आइसोलेशन नियमों के उल्लंघन का आरोप भी लगाया है।

जूनियर डॉ। गौरव सिंह परिहार ने बताया, नियमों के मुताबिक को लाभांश ड्यूटी के बाद सात दिनों का आइसोलेशन देना होता है। लेकिन यहाँ को विभाजित ड्यूटी के बाद सामान्य ड्यूटी लगा दी जा रही है। इसकी वजह से कोरोना संक्रमण के साथी डॉक्टरों और रोगियों में भी फैलने की प्रबल संभावना होती है। अब तक 110 से अधिक जूनियर डॉ। हो चुके हैं। इसके बाद भी सरकार और प्रशासन किसी भी तरह का इंसेटिव भी नहीं दे रहा है।

जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के प्रवक्ता डॉ। प्रेम चौधरी ने बताया कि रेजिडेंट डॉक्टर खुद को बेहद मजबूर पा रहे हैं। ऐसे में अब मेडिकल कॉलेज के डीन, स्वास्थ्य मंत्री, मुख्यमंत्री, राज्यपाल और राष्ट्रपति को पत्र भेज कर अपनी मजबूरी बताएंगे। रायपुर मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर अपनी विभिन्न मांगों को लेकर मंगलवार से हड़ताल पर हैं।

हर पत्र व्यक्तिगत हसियत से

जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने राज्यपाल को संबोधित पत्र का मजमून तैयार किया है। इसको व्यक्तिगत हैसता से ही लिखा जाना है। इसमें कहा गया है, “इस वैश्विक महामारी के दौरान मेरे द्वारा अपने स्वास्थ्य व सुरक्षा को प्राथमिकता न देते हुए समाज व देश हित में निरंतर काम किया जा रहा है।” यदि सार्वजनिक और देश हित में काम करते हुए मेरी मृत्यु हो जाती है तो मुझे एक को विभाजित वैटर के तौर पर शहीद का दर्जा देते हुए उनके बराबर सम्मान दिया जाना चाहिए। मेरे परिवार की सामाजिक, नैतिक और आर्थिक सुरक्षा को भी संज्ञान में रखा जाना चाहिए। ”

एक साल में बहुत कुछ कर सकती थी सरकार, लेकिन कुछ नहीं किया

रेजिडेंट डॉ गौरव सिंह ने कहा, एक साल से हम लोग कोरोना से लड़ रहे हैं। सरकार के पास पर्याप्त समय था। इस एक साल में वह एक नया कोविड डेडिकेटेड अस्पताल बना सकता था। उसके लिए अलग से लोगों की भर्ती कर सकता था। लेकिन इस एक साल में शासन-प्रशासन की ओर से ऐसा कुछ नहीं किया गया।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: