Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

परीक्षाओं पर तालाडाउन का असर: छत्तीसगढ़ में नर्सिंग की सभी परीक्षाएं प्रभावित, कारोना मरीजों के इलाज में लगेगी स्टूडेंट्स ड्यूटी

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिस्ट

भाजपा सांसद रामविचार नेताम ने परीक्षा को स्थगित करने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र भी भेजा था।

  • पं। दीनदयाल उपाध्याय स्मृति स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय से सूचना जारी
  • 22 अप्रैल से होनी चाहिए थी परीक्षाएं, ऑफलाइन परीक्षा की मांग कर रहे नर्सिंग कॉलेजों के छात्र थे

छत्तीसगढ़ की विभिन्न परीक्षाओं पर लॉकडाउन जारी है। अब नर्सिंग पाठ्यक्रमों की सभी परीक्षाओं को स्थगित कर दिया गया है। संध्या पं। दीनदयाल उपाध्याय स्वास्थ्य विज्ञान एवं आयुष विश्वविद्यालय के कुलसचिव ने इसका आदेश जारी कर दिया। वहीं चिकित्सा शिक्षा विभाग ने नर्सिंग के छात्रों की सेवाएं कोरोना के मरीजों के इलाज और प्रबंधन में लगाने का आदेश जारी किया है।

आयुष विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ। राजेश हिशकर ने 10 अप्रैल को जारी शासनादेश का चिकित्सा शिक्षा संचालक के पत्र का हवाला देते हुए छात्रों के लिए सूचना की है। यह कहता है कि नर्सिंग, पोस्ट बेसिक नर्सिंग और बी नर्सिंग की परीक्षाएं आगामी आदेश तक सुरक्षित की जाती हैं। इन तीनों पाठ्यक्रमों के विभिन्न वर्षों की परीक्षाएं 22 अप्रैल से 12 मई तक प्रस्तावित थीं। प्रदेश भर में पाठ्यक्रम के लिए 18 और सभी के लिए 9 परीक्षा केंद्र बनाये गये थे। नर्सिंग के छात्र पिछले महीने से ही इस परीक्षा का विरोध कर रहे थे। उनका कहना था कि महामारी के दौरान परीक्षा देना उनके लिए मुश्किल होगा। उन्होंने ऑफ़लाइन परीक्षा की मांग की थी। भाजपा सांसद रामविचार नेताम ने परीक्षा को स्थगित करने के लिए मुख्यमंत्री को पत्र भी भेजा था।

आयुष विश्वविद्यालय के कुलसचिव की ओर से जारी सूचना।

आयुष विश्वविद्यालय के कुलसचिव की ओर से जारी सूचना।

संचालक ने ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए

इधर चिकित्सा शिक्षा संचालक ने सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों और चिकित्सा महाविद्यालयों के जेटातागण को पत्र लिखकर नर्सिंग छात्रों की ड्यूटी लगाने के लिए निर्देशित किया है। सरकार के निर्देशों का हवाला देते हुए संचालक ने लिखा है कि अन्य नर्सिंग के प्रथम और द्वितीय वर्ष, बीएससी नर्सिंग के तृतीय वर्ष और पोस्ट बेसिक के नर्सिंग के प्रथम और द्वितीय वर्ष के छात्रों की ड्यूटी लगाई जाएगी। जीएनएम पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष के छात्र-छात्राओं की भी ड्यूटी लगाने को कहा गया है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: