Harshit India news

breaking news | Bhopal local news | Madhya Pradesh news | Indore news

आबादीुनवाई में जनता का बवाल: बस्तर में विधायक की गाड़ी पर पथराव, अंबिकापुर में ग्रामीणों ने अफसरों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा।

विज्ञापन से परेशान हैं? बिना विज्ञापन खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रायपुर31 मिनट पहले

  • कॉपी लिस्ट

हालात ऐसे बिगड़े की विधायक को खुद को बचानेकर भागना पड़ा, तस्वीर बस्तर के चपका की है।

बस्तर और अंबिकापुर के गांवों में सोमवार को जबरदस्त बवाल हो गया। दोनों स्थानों पर उद्योग लगाने को लेकर जनसुनवाई हो रही थी। इसका मकसद ग्रामीणों की राय के बारे में इन क्षेत्रों में उद्योग स्थापित करने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाना था, लेकिन ये हो न हो। अफसरों और नेताओं की दलीलों को सुनकर जनता भड़क उठी और दोनों स्थानों पर मारपीट की घटनाओं के सामने आईएनएन। दोनों स्थानों पर ग्रामीण यह भी कहते दिखते हैं कि मानकर कोरोना काल में जनसुनवाई करवाई जा रही है ताकि प्रशासनिक अफसर और बिजनेसमैन अपनी मनमानी कर सकें। हंगामे के बाद अब उद्योग लगाने का मामला अधर में रह गया है।

बस्ता । हुसामा
बस्तर ब्लॉक के चपका में प्रस्तावित मिनी एकीकृत स्टील प्लांट के लिए सोमवार को हो रही जनसुनवाई में पहुंचे क्षेत्रीय विधायक चंदन कश्यप को चुप रहना भारी पड़ गया। विधायक के कुछ न कहने से लोग नाराज हो गए और उन्हें अभद्र व्यवहार करने लगे। हाथापाई की आशंका देखते हुए उनके अंगरक्षकों ने तत्काल गाड़ी में बैठाकर उन्हें सुरक्षित भिजवाया। इस दौरान नाराज ग्रामीण कार के पीछे भी दौड़े और पत्थर भी फेंके, लेकिन तब तक विधायक ग्रामीणों की पहुंच से बाहर जा चुके थे। बवाल इस बात को लेकर हुआ कि कुछ ग्रामीण प्लांट स्थापना से पर्यावरण को नुकसान, क्षेत्रीय लोगों को रोजगार जैसे मुद्दों पर बात कर रहे थे लेकिन लोगों की तरफ से विधायक कुछ नहीं कह रहे थे।

जब अफसरों की पिटाई हुई
अंबिकापुर के चिरगा में एलोमीना रिफाइनरी का प्लांट लगाने के लिए जनसुनवाई में हंगामा हो। महिलाओं ने जिला उद्योग अधिकारी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। हालात यह थे कि अपर कलेक्टर को पुलिस ने तुरंत मदद की थी। जिला उद्योग अधिकारी अब्दुल शाकिर को महिलाओं और ग्रामीणों ने पीटा। लोगों ने अपर कलेक्टर के लाल धुर्वे को भी निशाना बनाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस बल ने उन्हें भीड़ से बचा लिया। अफसरों का कहना है कि कुछ महिलाओं ने तब हंगामा किया, जबकि उनकी बात पूरी सुनी जा चुकी थी। इससे पहले ग्रामीणों ने जन परीक्षण के विरोध में कलेक्टर को आवेदन देकर कहा था कि जिस जमीन पर प्लांट खोला जा रहा है वह हौगा, निस्तारी की जमीन है।

खबरें और भी हैं …

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: